Breaking News

एकता की मिसाल: हिन्दू बेटी की शादी में मुस्लिम दे रहे थे पहरा

आप सभी जानते ही हैं कि दिल्ली में हिंसा होने के बाद से लोग हैरान और परेशान हैं। ऐसे में वहां के माहौल से जुडी कई तरह की खबरें अब तक फैल रहीं हैं। आपको पता ही होगा नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में हुई हिंसा में 38 लोग मारे गए और चांदबाग में भी हिंसा हुई थी। वहीं हाल ही में इस इलाके से ही एक ऐसी खबर सामने आई है जो बहुत बेहतरीन है। जी दरअसल यहाँ एक हिन्दू लड़की की शादी थी और परिवार शादी रद्द करने के लिए मजबूर था, लेकिन तभी कुछ मुस्लिम पड़ोसी आए और उन्होंने हिंदू परिवार की मदद की और इंसानियत की एक नयी मिसाल को पेश कर दिया।

जी दरअसल इस पूरे मामले में बताया गया है कि ‘सावित्री प्रसाद की उम्र 23 वर्ष है और उनकी शादी थी। बीते मंगलवार यानी 25 फरवरी की बात है जब उन्होंने बताया कि वह अपने घर में रो रही थी क्योंकि बाहर हिंसक भीड़ थी। वहीं शादी का आयोजन उसी दिन था और सावित्री ने बताया कि उनके कुछ मुस्लिम पड़ोसी उनके साथ थे। वो सामने आए और उन्होंने उनकी मदद की।’ इस मामले में सावित्री ने एक वेबसाइट से बात की और इस दौरान उन्होंने कहा, ‘मेरे मुस्लिम भाई शादी के दौरान हमारे साथ थे।’ उनकी शादी बीते बुधवार को हुई है। वहीं सावित्री के पिता भोदय प्रसाद ने बताया कि, ‘उनका घर उस गली के पास ही है जहां दंगे भड़के थे लेकिन उनके घर कुछ नहीं हुआ।’

उनके अनुसार इलाके के लोग उनके साथ थे और जब वो छत पर गए तो चारो ओर धुआं ही धुआं दिख रहा था। उनका कहना है, ‘हमें नहीं पता कि इस दंगे के पीछे कौन है पर वो हमारे पड़ोसी नहीं हैं। यहां हिंदू-मुस्लिम में बहुत प्यार है।’ आपको बता दें कि सावित्री की शादी के दौरान उनके पड़ोस में रहने वाले लोग जो मुस्लिम थे वह उनकी रक्षा में लगे रहे। वहीं आमिर मलिक सावित्री के घर के आगे पहरा दे रहे थे और वह चाहते थे बेटी की शादी अच्छे से हो जाए।