Breaking News

डेविड वार्नर का खुलासा, कप्तान पेन ने क्यों नहीं दिया 400 रन के वर्ल्ड रिकॉर्ड को तोड़ने का मौका

 एडिलेड टेस्ट मैच में पाकिस्तान के खिलाफ डेविड वार्नर ने शानदार तिहरा शतक बनाया। वार्नर के पास वेस्टइंडीज के दिग्गज ब्रायन लारा के 400 रन के व्यक्तिगत रिकॉर्ड को तोड़ने का मौका था लेकिन कप्तान टिम पेन ने 589 रन पर पारी घोषित कर दी। वार्नर 335 रन बनाकर नाबाद लौटे और उनके 400 रन तक पहुंचने से पहले पारी घोषित करने की वजह से पेन विवादों में आ गए।

डेविड वार्नर के पास पाकिस्तान के खिलाफ एडिलेड टेस्ट के दूसरे दिन टेस्ट क्रिकेट के सबसे बड़े व्यक्तिगत स्कोर के रिकॉर्ड को अपने नाम करने का मौका था। वार्नर ने दूसरे दिन तेजी से रन बनाते हुए महज 389 गेंद पर अपना तिहरा शतक पूरा किया था। पहले दिन शतक बनाने वाले ऑस्ट्रेलियाई ओपनर ने दूसरे दिन 260 गेंद पर दोहरा शतक बनाया और तेजी से बल्लेबाजी करते हुए तिहरा शतक भी जड़ डाला। ऐसा लग रहा था वार्नर टेस्ट से सबसे बड़े स्कोर 400 रन की रिकॉर्ड भी तोड़ देंगे लेकिन ऑस्ट्रेलिया के कप्तान ने पारी घोषित कर दी।

कप्तान पेन ने क्यों घोषित की पारी

मैच के बाद डेविड वार्नर ने इस बात का खुलासा किया कि आखिर कप्तान पेन ने पारी घोषित करने का फैसला क्यों लिया। उन्होंने बताया कि टीम का हित सबसे पहले आता है और उसके बाद किसी व्यक्तिगत रिकॉर्ड की बारी आती है। दरअसल मौसम विभाग ने यह भविष्यवाणी की है कि मैच में अगले दिन बारिश हो सकती है।

पारी घोषित करने के बाद गेंदबाजों को पाकिस्तान के 20 विकेट लेने का प्रयाप्त समय मिलेगा। आज खेल खत्म होने तक हमने 6 बल्लेबाजों को आउट कर दिया अब रविवार को अगर बारिश होती भी है तो अगले दो दिन के खेल में हमारे गेंदबाजों के पास 14 विकेट हासिल करना होगा। ऐसा करने में गेंदबाज सक्षम हैं और उनके पास वक्त भी होगा।

वार्नर को मिला अतिरिक्त समय 

वार्नर ने बताया कि पारी घोषित किए जाने की जानकारी उनको थी। स्मिथ से मैंने पूछा कि कितने बजे तक हम बल्लेबाजी कर सकते हैं उन्होंने कहा शाम के 5.40 के बाद पारी घोषित कर सकते हैं। जब मैं डॉन ब्रैडमैन और मार्क टेलर के 334 रनों के रिकॉर्ड के पास था तो मुझे टीम मैनेजमेंट की तरफ से बताया गया पारी घोषित करने का निर्धारित समय 5.40 है लेकिन 335 रन तक पहुंचने के लिए उनको अतिरिक्त समय दिया जाएगा

वार्नर ने तोड़ा ब्रैडमैन का रिकॉर्ड

वॉर्नर एडिलेड में 335 रन बनाकर नाबाद रहे उन्होंने ब्रैडमैन और टेलर के व्यक्तिगत स्कोर को पीछे छोड़ा। टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया की तरफ से सबसे बड़ा स्कोर मैथ्यू हैडन (380) के नाम दर्ज है।