Breaking News

तेजी से बदल रही जॉब मार्केट, आप भी जल्द हो जाये तैयार!

NEW DELHI. जॉब मार्केट की तस्वीर तेजी से बदल रही है। कंपनियां लागत घटाने के लिए AUTOMATION जैसी नई TECHNOLOGY अपना रही हैं, लिहाजा नियुक्तियां व कामकाज के तरीके बदल रहे हैं।-dainikdunia.com

 

भारत में 56 प्रतिशत कंपनियों में 20 फीसदी कर्मचारी

कुल मिलाकर स्थायी नौकरी या 5 साल तक के लिए कांट्रैक्ट जॉब का चलन धीरे-धीरे खत्म होने के तगड़े आसार हैं। केलीओसीजी की तरफ से कराई गई ‘वर्कफोर्स एजिलिटी बैरोमिटर स्टडी’ की REPORT के मुताबिक, भारत में 56 प्रतिशत कंपनियों में 20 फीसदी कर्मचारी काम की समयसीमा के आधार पर नियुक्त किए गए हैं।

सलाहकार और ऑनलाइन टैलेंट कम्यूनिटीज शामिल

बात यहीं खत्म नहीं होती। 71 प्रतिशत कंपनियां इस तरह की नियुक्तियां अगले दो साल में बढ़ने की योजना बना रही हैं, जो एशिया-प्रशांत क्षेत्र में सबसे ज्यादा होंगी।

आईटी, शेयर्ड सर्विस सेंटर्स और स्टार्टअप्स में सबसे ज्यादा नियुक्तियां काम की समयसीमा के आधार पर हो रही हैं। इस तरीके से नियुक्त कर्मियों में फ्रीलांसर्स, अस्थायी कर्मचारी, सर्विस प्रवाइडर्स, अलॉमनी, सलाहकार और ऑनलाइन टैलेंट कम्यूनिटीज शामिल हैं।

ALSO READ: पद्मावती रिलीज के खिलाफ, सुप्रीम कोर्ट ले सकती है बड़ा फैसला

गिग ECONOMY

कर्मचारी नियुक्त करने के इस मॉडल को ‘गिग इकॉनमी’ नाम दिया गया है क्योंकि कंपनियां स्थायी की जगह अस्थायी तौर पर कर्मचारियों की नियुक्ति कर रही हैं। गिग ECONOMY में तेज-तर्रार लोग मांग और पसंद के मुताबिक अलग-अलग प्रोजेक्ट और संगठनों में घूमते-फिरते मांग और आपूर्ति के मॉडल पर काम करते हैं।

जाहिर है, आगे चलकर सुबह के 9 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक की शिफ्ट के साथ-साथ सालाना वेतन वृद्घि, रिटेंशन बोनस और अच्छी-खासी तादाद में कैजुअल और प्रिविलेज लीव्स (सीएल और पीएल) जल्द गुजरे जमाने की बातें हो सकती हैं।

 

ALSO READ: यूपी के इस मुस्लिम नेता ने कहा- अयोध्या में केवल राम मंदिर बनेगा

काम के घंटे तय करने की आजादी

गिग ECONOMY में फिट बैठती है। इससे कर्मचारियों को उनके काम के घंटों पर ज्यादा नियंत्रण मिलता है। यह अक्सर गिग वर्कर्स के लिए ही संभव हो पाता है क्योंकि उनकी नियुक्तियां किसी खास प्रोजेक्ट के लिए होती हैं, जहां काम के आधार पर वेतन और तोहफे मिलते हैं।

वक्त की जरूरत

जब अर्थव्यवस्था में सुस्ती के हालात पैदा होते हैं और नई TECHNOLOGYबिजनेस मॉडल को चैलेंज करने लगती हैं तो ऐसी स्थिति में कंपनियों को गिग ECONOMY अपनाना पसंद आता है क्योंकि इसमें उन्हें कर्मचारियों पर लागत घटाकर भी तरह-तरह के प्रोफेशनल्स की सेवाएं लेने की सहूलियत मिलती है।

जब कंपनियों के समक्ष बाजार की जरूरतों के हिसाब से कर्मचारियों को हुनरमंद बनाने की चुनौती पेश होती है तो उभरती तकनीक में बड़ी संख्या में नौकरियां गिग ECONOMY का हिस्सा बन जाती हैं।

IT INDUSTRY ने दिखाई राह

AUTOMATION और गिग ECONOMY अपनाने वाली पहली इंडस्ट्री संभवतः आईटी है। इसके चलते इस उद्योग में हजारों कर्मचारियों को नौकरी से हाथ तो धोना पड़ा, लेकिन वैसे लोगों को फायदा भी हो रहा है जो हर तरह का प्रोजेक्ट हैंडल करने में सक्षम हैं और जिन्होंने बदले हुए हालात की जरूरतों के हिसाब से खुद को ढाल लिया है।

 

loading...