Breaking News

महिलाओं के स्वाभिमान की लड़ाई लड़ रही हैं कमलाः कुलदीप

सुल्तानपुर. पति की हत्या के बाद कमला यादव खुद की जान को भी हथेली पर लेकर चल रही हैं। समाजवादी पार्टी में रहीं कमला ने जब देखा कि इस पार्टी ने गठबंधन से उनके ही पति के हत्यारों को टिकट दे दिया, तो वह खुलकर महिलाओं के स्वाभिमान की लड़ाई लड़ने के लिए मैदान में कूद पड़ीं हैं।

युवा नेता कुलदीप यादव बताते हैं कि कमला को हर जाति धर्म के लोगों का समर्थन मिल रहा है। वह खुद की जिंदगी महिलाओं, लड़कियों के स्वाभिमान और सम्मान की रक्षा के लिए झोंक रही हैं। सुल्तानपुर में आज भी दलितों पिछड़ों के घर की लड़कियों और लड़कों को चौराहों पर खुलेआम पिटाई और हत्या कर दी जाती है। उन्हों जाति व्यवस्था के अपमान का घूंट पीकर जीना पड़ता है। कमला ने इस व्यवस्था के खिलाफ बिगुल फूंका है। ऐसे में हर नागरिक का कर्तव्य है कि वह उनका साथ दे।

कमला यादव को सुल्तानपुर की वीरांगना भी कहा जा रहा है। उन्हें वीरांगना झांसी की रानी के नाम से लोग सम्मान देकर बुलाते हैं। इलाके में कमला यादव के साथ सैकड़ों महिलाओं का जत्था दिन रात चल रहा है। कुलदीप यादव कहते हैं कि कमला के लिए अब लहर चल रही है। उनके पति राम कुमार को दबंगों ने सिर्फ इस लिए मारडाला था, क्योंकि वह सामंतवाद के खिलाफ ग्राम प्रधानी का चुनाव लड़ गए थे। पति की हत्या के दर्द को सहने वाली कमला नहीं चाहतीं कि किसी और की मांग का सिंदूर उजड़े। वह हर दम इलाके में अमन चैन के लिए लोगों के बीच खड़ी रहती हैं।

loading...