इंटरनेशनल मॉडल बनी एक ट्रक ड्राइवर की बेटी,जानिये अब कितनी इनकम

lucknow. यूपी के हाथरस जिले की रहने वाली प्रतिभा चौधरी को यूएई की कंपनी ने अपना ब्रांड अंबेसडर बनाया है। वो इस कंपनी के लिए मॉडलिंग कर रही हैं।

प्रतिभा चैधरी ने एक वेबसाइट से बातचीत के दौरान बताया,मेरी लाइफ में सब कुछ अचानक हुआ। मेरे पापा ट्रक ड्राइवर हैं। उनकी सैलरी सिर्फ 13 हजार रुपए है। हमारा खर्च उसी में चलता था। मेरी लाइफ में ट्व‍िस्ट आया और मुझे यूएई से माडलिंग का ऑफर आ गया।

प्रतिभा चौधरी

 

कंप्रोमाइज करना हमारी आदत

प्रतिभा चौधरी ने कहा, मैं अलीगढ़ और हाथरस के बॉर्डर एरिआ में पड़ने वाले एक छोटे से गांव से हूं। बहुत ही मीडियम क्लास फैमिली में जन्म होने से शुरू से ही संघर्ष बना रहा। छोटी-छोटी बातों में कंप्रोमाइज करना हमारी आदत बन गई थी।

मुझे शुरू से ही डांस, एक्टिंग, मॉडलिंग का शौक था। लेकिन हम जाट परिवार से हैं और हमारे यहां लड़कियों का बाहर निकलना, यहां तक कि किसी रिश्तेदार की शादी में भी डांस करना बुरा माना जाता है।”

 

प्रतिभा चौधरी

हम तीन बहनों ने पूरे गांव में धमाल

जैसा की हमारी बिरादरी में होता है, हम लोग बातें कम फाइट ज्यादा करते हैं। लेकिन लड़कियों में सिर्फ हम तीन बहनों ने पूरे गांव में धमाल मचा रखा था। गांव का कोई लड़का बस ये सुन ले कि हम उस एरिआ में आ रहे हैं निकल लेता था।

कॉलेज के टाइम या मार्केट के टाइम मम्मी कहती थी, बिटिया जाओ लेकिन किसी लड़के से लड़ाई-झगड़ा करके न आना। मैं कहती थी, वो हमें तो न छेड़ेंगे, लेकिन म्हारी फ्रेंड को कुछ कहेंगे तो भी ठीक न होगा। लड़कों को पीटने के लिए हम बहनें अपने दोस्तों की बातों को भी बढ़ा दिया करते थे।”

मेरा मन पढ़ाई में बिल्कुल नहीं लगता था। लेकिन मां-पापा की जिद थी या यूं कहें कि सोशल ट्रेंड था कि पढ़ लो अच्छे घर में शादी होगी। कोई ठीक लड़का मिलेगा। मैंने बिना मन के एमए पास किया।

 

प्रतिभा चौधरी

 

पापा से जिद करके मुझे भी दिल्ली बुला लिया

मेरी बड़ी बहन डिंपल की वजह से ही आज मैं यहां हूं। वो मेरे से काफी साल पहले दिल्ली में जॉब करने को आ गई थी। एमए होने के बाद ही उसने घर पर पापा से जिद करके मुझे भी दिल्ली बुला लिया।

नवंबर 2013 में दिल्ली में चलने वाली सरोज खान अकाडमी में मैं डांस सीखने गई। वहां 50 हजार रुपए महीने की फीस थी। महीने में 2 क्लास सरोज खान के साथ अटेंड करनी थी। बाकी घर पर प्रैक्ट‍िस। इतनीं फीस हम दे नहीं सकते थे।

 

प्रतिभा चौधरी

दोस्तों पर ज्यादा भरोसा करना पड़ा महंगा

मैंने घर पर ही प्रैक्टिस करनी शुरू कर दी। हम दोनों बहनों ने साथ मिलकर डांस अकाडमी खोली, लेकिन अपने ही कुछ दोस्तों पर ज्यादा भरोसा करना महंगा पड़ गया। जो स्टूडेंट्स आते थे, उन्हें हमारे दोस्त ही 1 महीने में बहला कर बाहर दूसरे संस्थानों में भेज देते थे।

8 महीने में ही हम करीब 4 लाख के घाटे में आ गए। कर्ज बढ़ता जा रहा था, उसी वक्त निर्णय लिया और 2014 में हमने अकाडमी बंद कर दी।”

 

प्रतिभा चौधरी

 

दुबई से एक कंपनी में मॉडलिंग का ऑफर

इसके बाद मैंने कई कंपनी में नौकरी के लिए सीवी लगाई थी। मुझे दुबई से एक कंपनी में मॉडलिंग का ऑफर मिला। लेकिन हम दोनों बहनों में हिम्मत नहीं हो पा रही थी कि हम उसको एक्सेप्ट करें। क्योंकि इतनीं घटनाएं विदेशों की सुन चुके थे। मॉडलिंग की दुनिया में तो वैसे भी 90 परसेंट तक लड़कियों की घटनाएं देख-सुनकर डरे हुए थे।

डांस अकाडमी बंद होने के बाद से हम 3 महीने तक घर पर ही रहे, उस वक्त बहुत ज्यादा डिप्रेशन हो गया था। एक दिन दुबई के ऑफर का रिमाइंडर मेल आया। डिंपल दी ने कहा- एक बार बात करते हैं, सब सही हुआ तो ही दुबई जाएंगे। इसके बाद दीदी ने लगातार कंपनीं की डीटेल्स सरकारी दफ्तरों से बातचीत करके पता कराईं।”

 

प्रतिभा चौधरी

 

2 महीने के प्रोडक्ट शूट पर मुझे 5 लाख रुपए मिले

हर तरह से हम लोग श्योर हो गए तभी लीगल पेपर्स पर साइन किए। इसके बाद भी हम किसी भी स्थिति के लिए पहले से तैयार थे। इमरजेंसी की भी पूरी तैयारी थी। दीदी ने अपनी जिम्मेदारी पर मां-पापा को मनाया और मैं दुबई चली गई।”

उस वक्त 2 महीने के प्रोडक्ट शूट पर मुझे 5 लाख रुपए मिले थे। जोकि कंपनीं ने एडवांस पेपर साइनिंग के दौरान ही अकाउंट में डाल दिए थे। अभी मेरा कंपनी के साथ 1 साल का कॉन्ट्रैक्ट है।

 

पापा के लिए एक बड़ी गाड़ी गिफ्ट करूंगी

पापा ट्रक ड्राइवर हैं, मैंने पापा से कहा है कि उनके लिए एक बड़ी गाड़ी गिफ्ट करूंगी। जिसमें वो सैलरी पर ड्राइवर रखेंगे। उनकी खुद 10 ट्रक होंगी, जिन्हें वो चलवाएंगे। मेरी बातें सुनकर वो फोन पर ही बहुत इमोशनल हो जाते हैं। बोलते हैं जो कहेगी वही होगा। पहले काम पूरा करके आ जा।

मेरी मां हाउस वाइफ हैं। बड़ा भाई हैं जॉब करता है। बड़ी बहन है, उसकी शादी हो गई। डिंपल दीदी मेरे से बड़ी हैं। मैं सबसे छोटी हूं।

loading...
Pin It