Breaking News

आरक्षण कहांः सवर्ण से ज्यादा नंबर लाने के बाद भी दलित-पिछड़े नहीं बन पाए प्रोफेसर !

रिपोर्टः रामेंद्र सिंह

इलाहाबाद. उत्तर प्रदेश उच्चतर सेवा आयोग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की छवि खराब कर रहा है। आयोग ऐसे रिजल्ट जारी कर रहा है कि अनुसूचित जाति और पिछड़ी जाति के अभ्यर्थी सवर्ण वर्ग से अधिक नंबर लाने के बाद भी असिस्टेंट प्रोफेसर जैसे पदों पर चयनित नहीं हो पा रहे हैं। सरकार की आंख में धूल झोंक रहे अधिकारी इस तरह से मनमाने तरीके से रिजल्ट तैयार कर रहे हैं कि सरकारी नियमावली की भी धज्जियां उड़ रही हैं। कोर्ट भी ऐसे मामलों पर आंख बंद कर रहा है।

गौरतलब है कि राष्ट्रीय विद्यार्थी चेतना परिषद ने इस मुद्दे को इलाहाबाद में विरोध प्रदर्शन कर संज्ञान लेने की अपील की है। परिषद के राष्ट्रीय संयोजक मनोज यादव ने कहा है कि यह आम आदमियों के बीच मारकाट मचाने की कोशिश है। कायदे कानून को ताक पर रखकर वर्ग विशेष को ही ज्यादा नौकरियां दी जा रही हैं। दलितों और पिछड़ों की मेरिट सामान्य से भी ऊपर जा रही है। यह कोर्ट को भी दिखाई नहीं दे रहा है।

मनोज ने आगे कहा है कि उच्चतर शिक्षा आयोग, प्रयागराज ने आज असिस्टेंट प्रोफेसर, वि०सं० 47-के लिखित परीक्षा का परिणाम जारी कर दिया है। सामान्य की मेरिट ST से भी कम है..

(1) असिस्टेंट प्रोफेसर-कृषि वनस्पति की मेरीट-
1-Gen- 105.05
2-OBC- 125.25
3-SC/ST- 107.07

(2) असि०प्रोफेसर-पादप रोग की मेरीट-
1-Gen- 133.33
2-OBC-141.41

(3) असि०प्रोफेसर-कीट विज्ञान की मेरीट-
1-Gen- 120.41
2-OBC- 148.98

(4)असि0प्रोफेसर -समाजशास्त्र
1-Gen- 103
2-Obc- 130
3- SC- 107

अंग्रेजी
1-Gen -50
2-obc -73

उर्दू
1-Gen-145
2-obc-165

राजनीति शास्त्र
1-Gen -115
2-obc-127

अर्थशास्त्र
1 Gen 132
2 obc 139