Saturday, September 4, 2021

किसने कहा वकील नहीं, जज का काम करूंगा ?

justice_hammer_450दिल्ली।। (डीडीसी न्यूज़ नेटवर्क) कांग्रेस उपाध्यक्ष पद पर काबिज होने के बाद राहुल गांधी ने पार्टी में अपनी भूमिका और इरादे साफ तौर पर जाहिर कर दिए। एआईसीसी के सम्मेलन में उन्होंने जहां पार्टी के भीतर कमियों को उजागर कर सुधार पर जोर दिया, वहीं आम कार्यकर्ता की भूमिका सुनिश्चित करने की बात भी कही। राहुल ने कहा कि वह अब एक वकील की तरह नहीं, बल्कि जज बनकर अच्छे-बुरे पर अपनी राय देंगे। राहुल गांधी का यह रूप बिल्कुल बदला हुआ था। एक जिम्मेदार, भावुक, स्पष्ट और आशावादी। उन्होंने हर वो बात कहीं, जो दबी जबान में कार्यकर्ता कहते रहे हैं। उन्होंने बेहिचक माना कि कांग्रेस में कोई नियम कानून नहीं है। बाहर से आने वाले नेताओं को चुनाव में टिकट दिए जाते हैं। वह अभी तक यह नहीं समझ पाए कि संगठन चलता कैसे है, चुनाव कैसे जीत जाता है और कैसे सरकार बन जाती है। राहुल ने कहा, लोग चाहते हैं कि उनकी आवाज सुनी जाए। पर अफसोस की बात है कि जो खुद भ्रष्ट हैं, वह भ्रष्टाचार पर भाषण देते हैं। आगे उन्होंने कहा कि खुद महिलाओं का उत्पीड़न करते हैं, वे महिला सशक्तीकरण की बात करते हैं। जब तक बंद कमरों के अंदर लोगों का भविष्य तय होगा, तब तक यह स्थिति नहीं बदलेगी। कांग्रेस को गांधी जी का संगठन करार देते हुए उन्होंने कहा कि इसमें हिन्दुस्तान का डीएनए है।

Leave a Reply