Wednesday, September 8, 2021

किसानों के मसीहा हैं मुख्यमंत्री-शिवराम यादव

resizedimage (27)लखनऊ।।(अखिलेश कृष्ण मोहन)।। बस्ती जिले के युवा और तेज तर्रार नेता शिवराम यादव परिचय के मोहताज नहीं हैं, विधानसभा चुनाव की तैयारियों से लेकर सरकार के 10 महीना बीतने तक शिवराम यादव सक्रिय कार्यकर्ता की भूमिक में हैं। शिवराम यादव अपने आपको पार्टी का एक सक्रिय कार्यकर्ता मानते हैं। और हम सक्रिय कार्यकर्ताओं की आवाज को ही जनता की आवाज मानते हैं। डीडीसी न्यूज़ के लखनऊ ब्यूरो अखिलेश कृष्ण मोहन ने शिवराम यादव से कुछ अनछुए पहलुओं पर बात-चीत की। प्रस्तुत है बातचीत का रोचक अंश।

सवाल-समाजवादी पार्टी के सत्ता में आए 10 महीने से अधिक हुए…..क्या वो मागें पूरी हो रही हैं जो अखिलेश यादव ने जनता से वादे किए थे ?

अखिलेश यादव युवाओं के नेता हैं। मुख्यमंत्री ने जो भी वादा किया है वह पूरा हो रहा है और पूरा होगा। आने वाले दिनों में काफी काम पूरे हो जाएंगे। मुख्यमंत्री खुद किसान के बेटे हैं, युवा हैं, युवा और किसानों के दर्द को समझते हैं। हर मागें पूरी होंगी ।

यूपी के शिक्षित नौजवान सरकार की ओर टकटकी लगाकर देख रहे हैं…लेकिन आरोप है कि नौजवानों को मिलने वाले बेरोजगारी भत्ते में तरह-तरह के प्रोविजन लगाकर उन्हें भत्ता पाने के लिए अयोग्य घोषित किया जा रहा है ?

बीती सरकार में पैसों का दुरुपयोग हो रहा था। नई समाजवादी पार्टी की सरकार युवाओं को ही तरजीह दे रही है। हम किसी को बेरोजगारी भत्ते से दूर नहीं करना चाहते। मैं बस्ती जिले का हूं। बस्ती में समाजवादी पार्टी के युवाओं में पार्टी की नीतियों को लेकर खासा उत्साह है। पार्टी चाहती है कि जरूरत मंदों को फायदा मिले।

बीते 10-11 महीनों में मुख्यमंत्री बनने के बाद क्या सीएम अखिलेश यादव ने कभी बस्ती जिले का दौरा किया है?

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जल्द ही बस्ती जिले का दौरा करेंगे। चुनाव से पहले ही वह बस्ती जिले में लोगों से मिलेंगे, बस्ती जिले की जनता को मुख्यमंत्री से कोई शिकायत नहीं है। हमसब लोग युवा हैं और आने वाले समय में युवा समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के हर आदेश का पालन करेगा। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मिलने के लिए जो लोग लखनऊ आते हैं वो आसानी से अपनी शिकायत या किसी तरह की बात सीएम से मिलकर करते हैं किसी को कोई शिकायत नहीं है।

राजनीतिक में आप कैसे आए… क्या मिशन है ?

उत्तर- मैं पार्टी का एक युवा कार्यकर्ता हूं। समाजवादी पार्टी और राम मनोहर लोहिया मिशन के लिए काम करता हूं। जनता की समस्याएं सुनता हूं और उससे मुख्यमंत्री को अवगत करवाता हूं। मैं अपने आपको नेता नहीं बल्कि जनता और किसानों का सेवक मानता हूं। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का आशिर्वाद है कि मैं पार्टी के लिए लोकसभा चुनाव में एक मिशन के तौर पर लगा हूं।

क्या बस्ती में पार्टी की कार्यकारिणी में आंतरिक कलह है ?

नहीं ऐसा नहीं है….विरोधी दल के लोग ऐसा कर रहे हैं….समाजवादी परिवार की तरह है….किसी के अंदर कोई मतभेद नहीं है। हम सब एक हैं लोकसभा चुनाव में जी जान से सभी जुटे हैं और समाजवादी पार्टी की नीतियों को जनजन तक पहुंचा रहे हैं।

पिछले लोकसभा चुनाव में बस्ती जिले से राजकिशोर सिंह एक लाख से अधिक मतों से चुनाव हार गए थे, तो क्या इस बार उनके छोटे भाई डिंपल सिंह चुनाव जीत पाएंगे, पार्टी ने तो राजकिशोर को नहीं उनके ही छोटे भाई को उम्मीदवार बनाया है ?

डिंपल सिंह चुनाव जीतेंगे। समाजवादी पार्टी की वर्तमान सरकार में जो काम हो रहा है वह किसानों, मजदूरों और सभी के हित में है, जनता देख रही है। राजकिशोर सिंह जब चुनाव हार गए थे तब बीएसपी की सरकार थी, अब समाजवादी पार्टी की सरकार है समाजवादी पार्टी की ही सीट निकलेगी।

प्रदेश में समाजवादी पार्टी कितनी सीटें जीतेगी ?

समाजवादी पार्टी इस बार लोकसभा चुनाव में 60 से अधिक सीटें जीतेगी, हम नया रिकॉर्ड बनाने जा रहे हैं।

 (शिवराम यादव बस्ती जिले के रहने वाले हैं। समाजवादी पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता है। डीडीसी न्यूज़ के लखनऊ ब्यूरो अखिलेश कृष्ण मोहन के साथ कई मुद्दों पर बेवाकी के साथ चर्चा की।)

 

Leave a Reply