Wednesday, September 1, 2021

क्या कैबिनेट मंत्री अब ठोकेंगे ताल

PRESS 1डीडीसी न्यूज़ नेटवर्क।। लखनऊ।। यूपी  सरकार ने कैबिनेट का विस्तार कर कांग्रेस को एक कड़ा संदेश देने की कोशिश की है। रायबरेली, अमेठी और प्रतापगढ़ के नेताओं का कद बढ़ाए जाने से यह साफ है कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेसी दिग्गजों के सामने समाजवादी पार्टी के भी सियासी महारथी ताल ठोकेंगे । डीडीसी न्यूज़ नेटवर्क सूत्रों की माने तो कैबिनेट मंत्रियों को लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार भी बनाया जा सकता है।

यूपी सरकार ने झटपट कैबिनेट का विस्तार कर रायबरेली और अमेठी की घेराबंदी शुरू कर दी है। पिछले महीने समाजवादी पार्टी ने प्रमोद तिवारी को जब राज्यसभा भेजा तो ऐसा माना जा रहा था कि समाजवादी पार्टी रायबरेली और अमेठी को कांग्रेस का गढ़ मानकर कदम पीछे खींच रही है लेकिन अब उसी इलाके के मंत्रियों को तोहफा देकर समाजवादी पार्टी ने यह साफ कर दिया कि अभी तोल-मोल होना बाकी है। अमेठी से विधायक और खनन राज्य मंत्री रहे गायत्री प्रसाद प्रजापति कैबिनेट मंत्री बनने के बाद गदगद दिखाई दिए।

प्रतापगढ़ से विधायक शिवाकांत ओझा भले ही विदेशी दौरे पर हैं लेकिन उनके लिए भी पार्टी ने जगह बनाकर रखी है। उनको भी समाजवादी पार्टी सरकार कैबिनेट का ही ताज देकर ब्राह्मण वोट बैंक पर सेंध लगाना चाहती है। विदेश से आने के बाद ही शिवाकांत का शपथ ग्रहण होगा और वो लालबत्ती से दौड़ने लगेंगे। रायबरेली से विधायक और पर्यटन राज्यमंत्री रहे मनोज पांडेय को भी कैबिनेट की कमान दे दी गई । मनोज पांडेय की हिम्मत तो देखिए वो तो पूरे ब्राह्मण समाज को ही समाजवादी बता कर समाजवादी पार्टी का शुक्रिया अदा कर रहे हैं।

अखिलेश सरकार के मंत्रिमंडल का यह चौथा विस्तार है। सरकार ने मंत्रिमंडल विस्तार इतनी जल्दबाजी में किया कि कई मीडिया कर्मियों तक तो शपथ ग्रहण कवरेज के पास ही नहीं पहुंच पाए। मंत्रिमंडल में इस समय सीएम को मिलाकर 22 कैबिनेट मंत्री और 31 राज्यमंत्रियों समेत छह स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री हैं। लेकिन सूत्रों की माने तो सरकार के इस कैबिनेट विस्तार से कई नेता नाखुश हैं रायबरेली और अमेठी में समाजवादी पार्टी कौन सा चेहरा लोकसभा चुनाव में उतारेगी इसको लेकर भी अभी कुछ साफ नहीं कहा जा सकता।

Leave a Reply