Tuesday, September 7, 2021

जानिए राम मंदिर को लेकर क्या कहता है राजनाथ का मन

RajnathSinghलखनऊ/फैजाबाद (डीडीसी न्यूज़ एजेंसी) ।। लोकसभा चुनाव में राम मंदिर निर्माण को अहम मुद्दा बताने वाली भाजपा एक बार फिर मजबूर दिखाई दे रही है। मोदी सरकार की तरफ से पहली बार स्पष्ट कारण बताया गया है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर अपनी सरकार की मजबूरी बताते हुए कहा, ‘हाईकोर्ट का निर्णय आ गया है, मुझे लगता है, आपको सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की प्रतीक्षा करनी चाहिए। इसके लिए जरूरी कानून बनाने के लिए राज्यसभा में बहुमत नहीं है।’

राजनाथ सिंह ने ये बातें फैजाबाद में दीनबन्धु नेत्र चिकित्सालय के शिलान्यास कार्यक्रम में कही है। इस मौके पर उनके साथ आरएसएस के सर सह कार्यवाहक गोपाल किशन भी मौजूद थे। राजनाथ सिंह शनिवार से ही लखनऊ में हैं। रविवार को वह दोपहर बाद हेलिकॉप्टर से पहले अयोध्या पहुंचे। यहां उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम जन्मभूमि से जुड़े विवाद को निपटाने के लिए दो रास्ते हैं। एक रास्ता है, कोर्ट के जरिए इस मुद्दे का फैसला हो और दूसरा रास्ता है कि संसद इसके लिए कानून बनाए।JJ

केंद्र सरकार के कई बिल राज्यसभा में अटकते दिख रहे हैं। इनमें जमीन अधिग्रहण से जुड़ा बिल अहम है। विपक्ष राज्यसभा में इस बिल को मौजूदा स्वरूप में पास न करने देने पर आमादा है। लेकिन सूत्र बताते हैं कि सरकार अंत में संसद का संयुक्त सत्र (ज्वाइंट सेशन) बुलाकर बिल पास करवा देगी। एनडीए सरकार के पास लोकसभा में बहुमत है, लेकिन राज्यसभा में नहीं। लेकिन दोनों सदनों की बैठक एकसाथ बुलाने पर सरकार के पास बहुमत हो जाता है।