Monday, September 6, 2021

ट्रांसफर के डर से मैच हार जाते हैं अधिकारी

cm1_1428323084 (3)लखनऊ (अरविंद यादव)। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बैटिंग कर सोमवार को केडी सिंह बाबू स्टेडियम में इंडि‍यन ग्रामीण क्रि‍केट लीग (आईजीसीएल) की शुरुआत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि इस क्रिकेट लीग को खेलने वाले खिलाड़ी अब प्रदेश स्तर पर पहचान बनाएंगे। हर बार होने वाले आईएएस और मंत्री के क्रिकेट टूर्नामेंट में अधिकारी उन्हें इसलिए जिताते हैं, क्योंकि उन्हें ट्रांसफर और पोस्टिंग का डर रहता है। वहीं, मायावती पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि उनका हाथी सिर्फ बैठने के काम आता है, जबकि सपा की साइकिल चलाने के काम आती है। इसलिए विरोधियों को भी साइकिल चलाना चाहिए।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आईजीसीएल का उद्घाटन करने के लिए बाल नहीं बल्कि बैट थामा। अखिलेश पहली बॉल पर बड़ा शॉट लगाना चाहते थे, लेकिन वह चूक गए। दूसरी बॉल में भी यही हुआ। तीसरी बॉल पर उन्होंने एक जोरदार शॉट लगाया और लीग का उद्घाटन किया। इसके बाद लखनऊ की डीएसडी क्लब और हरदोई की इलेवन स्टार क्लब के बीच उद्घाटन मैच खेला गया। इस दौरान सीएम के साथ सेल्फी लेने और तस्वीरें खिंचवाने के लिए खिलाड़ियों में होड़ मची रही।

देश स्तर पर चमकेंगे खिलाड़ी

अखिलेश ने कहा कि अभी तक जो लड़के अपने खेल की बदौलत सिर्फ गांव और कस्बे के हीरो हुआ करते थे, वे प्रदेश स्तर पर अपनी चमक बिखेरेगें। उन्होंने बताया कि रविवार को वह अंबेडकर पार्क की तरफ गए थे, तब वहां एक खिलाड़ी खेल रहा था। पूछने पर उसने बताया कि वह बैटिंग के साथ बॉलिंग भी कर लेता है। मैंने कहा कि सोमवार को स्टेडियम आना। मैं बैटिंग करुंगा और तुम बॉलिंग करना। सीएम ने कहा ये लीग एक अच्छी शुरुआत है, क्योंकि ये टेनिस की बॉल वाले खेल को बढ़ावा देने वाली है। इसमें न पैड की जरूरत है और न हेलमेट की। इसके लिए उन्होंने आईजीसीएल के प्रमुख अनुराग भदौरिया की तारीफ की।

26 जिलों की 32 टीमें ले रही हैं हिस्सा

इस मौके पर अऩुराग भदौरिया ने बताया कि वह गांव-गांव जाकर आईजीसीएल के मैच कराते हैं। इसके बाद उस जिले के 11 बेस्ट खिलाड़ियों को आईजीसीएल टीम में लिया जाता है। इस बार करीब 26 जिलों की 32 टीमें टूर्नामेंट में हिस्सा ले रही हैं। उन्होंने बताया कि ये टूर्नामेंट नॉकआउट है। इसमें यूपी के साथ हरियाणा और बंगाल की भी टीमें भी खेल रही हैं। इसमें हर दिन तीन मैच खेले जाएंगे। आईजीसीएल 20 अप्रैल तक चलेगा। इसमें विजेता टीम को दो लाख रुपए, उपविजेता टीम को एक लाख रुपए और मैन ऑफ द सीरीज जीतने वाले खिलाड़ी को 25 हजार रुपए का इनाम मिलेगा। खास बात ये है कि इस टूर्नामेंट में स्कोरिंग और कमेंट्री भी ग्रामीण इलाकों के लड़के कर रहे हैं।

आईपीएल की तरह दर्शक लेंगे मजा

पहली बार हो रही इस लीग को देखने के लिए सुबह से ही दर्शकों की भीड़ जुटने लगी थी। स्कूली बच्चों से स्टेडियम की सीटें भरी नजर आ रही थीं, वहीं अलग-अलग टीमों का सपोर्ट करने के लिए उनके शहर और कस्बे से भी लोग स्टेडियम पहुंचे। यहां सारा इंतजाम आईपीएल की तर्ज पर किया गया है। आईपीएल की तरह जब धुन बजती, तो यहां पर आए दर्शकों का हो हल्ला शुरू हो जाता। इसके साथ यहां पर बड़ी स्क्रीन भी लगाई गई है। पूरे ग्राउंड में आईजीसीएल के झंडे भी लगाए गए हैं।