Saturday, August 28, 2021

पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर नहीं हुई कोशिश

Global-Journalist-Securityसंयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने सभी देशों की सरकारों से बीते साल पत्रकारों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कहा था । उन्होंने कहा था कि सच्चे लोकतंत्र व सतत विकास के लिए स्वतंत्र मीडिया बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसा में पत्रकारों को सुरक्षा मिलनी ही चाहिए। बान मून ने कहा था कि पत्रकार न केवल संघर्षपूर्ण स्थलों पर असुरक्षित होते हैं, बल्कि जब वे सरकारों, पुलिस और व्यापार क्षेत्र या मादक पदार्थों या हथियारों के माफियाओं की खबरें देते हुए भी खतरे में रहते हैं।

उन्होंने कहा था कि यह बहुत डरावनी स्थिति है। उन्होंने सभी देशों की सरकारों से कहा कि वे पत्रकारों को सुरक्षा देने, उन्हें दंड से छुटकारा दिलाने व न्याय हासिल करने में मदद के लिए हर सम्भव उपाय करें। उन्होंने कहा था कि यह पत्रकारों की सुरक्षा पर संयुक्त राष्ट्र की कार्य योजना का लक्ष्य है। सुरक्षा परिषद प्रस्ताव, 1738 भी कार्रवाई की बात करता है। एक आकड़े के मुताबिक बान ने कहा कि बीते करीब 10 सालों में 500 से ज्यादा पत्रकारों ने अपना जीवन खो दिया है। साल 2012 में ही कुल 66 से अधिक पत्रकार मारे गए जबकि अनगिनत पत्रकारों को हिरासत में लिया गया। उन्हें डरा-धमकाकर या सेंसरशिप के जरिए खामोश करने के प्रयास किए गए।

लेकिन सबसे बड़ा सवाल है कि पत्रकारों के हालात के लिए केवल सेमिनार होते हैं कोशिशें कभी नहीं की गईं।

Leave a Reply