Sunday, September 5, 2021

पीएम से दुखी होकर की खुदकुशी, क्या होगी गिरफ्तारी

rsz_pm_manmohan_upa_singhडीडीसी न्यूज़ नेटवर्क।। बैंगलूरू ।। बीते 10 साल ने बैंगलूरू में तंगहाली की जिंदगी जीने वाले 32 साल के एक सेल्समैन को प्रधानमंत्री की महंगाई ने खुदकुशी को मजबूर कर दिया । युवक के खुदकुशी के तीन पेज के नोट में लिखा है कि मैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की नाकामी से दुखी होकर मर रहा हूं। मेरी मौत के लिए पीएम की देश के आर्थिक हालात को लेकर नाकामी जिम्मेदार है। पंखे पर लटक कर खुदकुशी करने वाले जूता कंपनी के सेल्समैन ने खुदकुशी के नोट में पीएम की प्रशासनिक नाकामी को भी जिम्मेदार ठहराया है।

suicide_27_1

मामला चिकमंगलूर के दसराहल्ली का है । जहां 32 वर्षीय संतोष कुमार अप्पास्वामी गौड़ा का शव गुरुवार को उसके कमरे में पंखे से लटका मिला । पड़ोसियों ने घर के आधे खुले दरवाजे से संतोष को पंखे से लटका देखा, तो इसकी सूचना पुलिस को दी । संतोष के दोस्तों के मुताबिक आर्थिक तंगी और करियर में कामयाबी न मिलने से वह बड़ा दुखी था, उसे शराब और जुए की लत भी लग गई थी, पुलिस ने संतोष के कमरे से तीन पेज का एक सूइसाइड नोट बरामद किया है। यह नोट कन्नड़ में लिखा गया है, उसने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का नाम लेते हुए देश के राजनीतिक हालात पर जमकर भड़ास निकाली है। उसने लिखा है, ‘मुझे बैंगलूरू में काम करते हुए 12 साल हो गए हैं, लेकिन मैं कुछ पैसे कमाने और संपत्ति बनाने में नाकाम रहा हूं। आर्थिक तंगी के चलते मैं अपने बूढ़े मां-बाप की देखभाल भी नहीं कर पाया, यह मुझे बड़ा दुख देता है ! बैंगलूरू में रहना बड़ा मुश्किल है और इसलिए मैं इस शहर से नफरत करता हूं। बैंगलूरू में सच्चाई और मानवीय मूल्यों का कोई मोल नहीं है…मैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की नाकामी से भी दुखी हूं… पाकिस्तानी सैनिक हमारी सीमा में घुस रहे हैं, हमारे सैनिकों को मार रहे हैं, उनका गला तक काट रहे हैं, इसके बावजूद सरकार कुछ नहीं कर रही है… अगर पुनर्जन्म जैसी कुछ चीज है तो मैं एक भारतीय सैनिक की रूप में जन्म लूंगा और देश की सेवा करूंगा ।

 

 

 

Leave a Reply