Thursday, September 2, 2021

भगवान को भी है मिलावटी दूध से खतरा!

4006058_origवाराणसी. इंसान ही नहीं भगवान को भी मिलावटी दूध नुकसान कर रहा है। यही वजह है कि बाबा विश्वनाथ को अब ब्रांडेड कंपनी का ही दूध चढ़ाया जाएगा। इसके लिए मंदिर प्रबंधन ने पराग डेयरी से करार किया है। पराग डेयरी दूध का पांच और दस रुपए का पैकेट तैयार करेगी।

श्रद्धालु उसी पैकेट को लेकर मंदिर में जा सकेंगे। बाहरी दूध ले जाने पर पूर्णतया प्रतिबंध लगेगा। श्रद्धालुओं को एक ही छत के नीचे सभी सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए मल्टी स्टोरी बिल्डिंग बनाने की भी तैयारी है और अगले महीने से ही मंदिर के गर्भगृह की सुरक्षा पूर्व सैनिकों के हाथों में होगी।

सूबे के धर्मार्थ कार्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विजय मिश्र ने सोमवार को विश्वनाथ मंदिर की व्यवस्था दुरुस्त करने के संबंध में डीएम प्रांजल यादव, मुख्य कार्यपालक अधिकारी अजय कुमार अवस्थी समेत अन्य अधिकारियों के साथ दो घंटे तक बैठक की। इसमें प्रस्तावित योजनाओं को अमली जामा पहनाने की दिशा में उठाए जाने वाले कदम तय किए गए।

मीडिया से बातचीत में धर्मार्थ कार्य मंत्री ने बताया कि मंदिर में खुले मिलावटी दूध से अभिषेक पर रोक लगाने का निर्णय किया गया है। एक सप्ताह के अंदर रोक प्रभावी हो जाएगी। मंदिर परिसर के बाहर पराग डेयरी होलसेल डिपो खोलेगा। वहां से दुकानदार पांच और दस रुपए का पैकेट ले जा सकेंगे। दुकानदारों से श्रद्धालु पैकेट का दूध खरीदकर बाबा को चढ़ाएंगे। पराग के अलावा अमूल या अन्य ब्रांडेड कंपनियों का भी पैकेट बंद दूध बाबा को चढ़ाया जा सकेगा।

एक छत के नीचे सभी सुविधाएं
मंदिर को मिले एक मकान की जगह मल्टीस्टोरी बिल्डिंग तैयार कर एक छत के नीचे ही श्रद्धालुओं को सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। इस बिल्डिंग में क्लॉक रूम, वेटिंग रूम, इंक्वायरी, पूजा सामग्री विक्रय केन्द्र, कंट्रोल रूम आदि होगा। इसका खाका तैयार कर लिया गया है। जल्द ही बिल्डिंग निर्माण का कार्य शुरू होगा।

मंदिर परिसर में खुलेगा प्रसाद काउंटर
धर्मार्थ कार्य मंत्री ने बताया कि मंदिर परिसर में प्रसाद काउंटर खोला जाएगा। काउंटर से 21 ,51 एवं 101 रुपए के प्रसाद के पैकेट मिलेंगे। प्रसाद के डिब्बे में पेड़ा पराग का होगा। जबकि पैकेट पर‘प्रसाद काशी विश्वनाथ मंदिर’मुद्रित रहेगा।