Tuesday, September 7, 2021

भाजपा को हराने के लिए मिल सकते हैं माया-मुलायम

10नई दिल्ली/लखनऊ. यूपी में बीजेपी के खिलाफ समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के एकजुट होने की लालू यादव पर मुलायम सिंह यादव मायावती के साथ गठजोड़ के लिए तैयार हो गए हैं। एसपी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने आरजेडी अध्यक्ष लालू यादव की अपील को मंजूर करते कहा है कि वह मायावती से हाथ मिलाने को तैयार हैं, बशर्ते लालू खुद मायावती का हाथ पकड़कर उनके पास ले आएं।

बिहार के हाजीपुर में अपने पुराने विरोधी और जेडी (यू) नेता नीतीश कुमार के साथ गले मिलने के बाद लालू ने कहा था कि बीजेपी को हराने के लिए यूपी में भी मायावती और मुलायम सिंह यादव को साथ मिलकर चुनाव लड़ना चाहिए। हालांकि, एसपी के महासचिव नरेश अग्रवाल ने लालू की अपील पर कहा था कि प्रदेश में तो दूर, राष्ट्रीय स्तर पर भी बीएसपी के साथ गठबंधन की कोई संभावना नहीं है। लेकिन इसके अगले ही दिन एसपी अध्यक्ष ने बीएसपी के साथ गठबंधन को लेकर हामी भर दी। मुलायम ने कहा कि अगर लालू यह समझौता करवाएं तो उन्हें कोई ऐतराज नहीं है।

मुलायम सिंह यादव के इस बयान से यूपी की सियासत गरमा गई है। यूपी बीजेपी के अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने कहा कि मुलायम सिंह मायावती के साथ गठजोड़ को तैयार हो गए हैं, इससे साफ है कि मोदी बांटने वाले नहीं, एकजुट करने वाले शख्स हैं। उन्होंने कहा कि यूपी विधानसभा में बीएसपी विधायकों के बर्ताव को देख कर हम समझ गए कि वह एसपी की बी-टीम बनने को तैयार हैं। एसपी-बीएसपी के गठबंधन के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘चोर-चोर मौसेरे भाई।’

जेडी(यू) अध्यक्ष शरद यादव ने कहा है कि जो हमने बिहार में किया है, वह हम पूरे देश में करना चाहेंगे। उन्होंने कहा कि हम आरजेडी, एसपी, बीएसपी समेत कई क्षेत्रीय पार्टियों को मिलाकर एक फ्रंट बनाएंगे। जेडी(यू) ने कहा कि पार्टी लालू की अपील पर मुलायम सिंह के इस बयान का स्वागत करती है।

मुलायम ने तो मायावती से गठजोड़ के संकेत दे दिए हैं, लेकिन बीएसपी का मानना है कि मुलायम के साथ जाने से पार्टी का दलित वोट बैंक खिसक जाएगा। बीएसपी ने कहा कि एसपी से गठबंधन पर उन्हें फायदा कम और नुकसान ज्यादा होगा। पार्टी का कहना है कि लोकसभा चुनाव में उसे हार जरूर मिली है, लेकिन जल्द ही वह प्रदेश में वापसी करेगी।

गौरतलब है कि हाजीपुर में बिहार विधानसभा की 10 सीटों पर हो रहे उपचुनाव में लालू और नीतीश ने 20 साल पुरानी कड़वाहट को खत्म कर बीजेपी के खिलाफ एकजुट होने का फैसला किया। इसके साथ ही प्रचार के दौरान साझा रैली में उन्होंने कहा था कि यूपी में भी मुलायम सिंह और मायावती को एकजुट होना चाहिए, ताकि बीजेपी को हरा सकें। (साभार- एनबीटी)

 

Leave a Reply