Tuesday, September 7, 2021

मायावती ने की किसकी गिरफ्तारी की मांग ?

resizedimageजयपुर साहित्य उत्सव में राजनीतिक आलोचक आशीष नंदी ने भ्रष्टाचार पर एक विवादित बयान देते हुए कहा है कि भ्रष्टाचार करने वाले ज्यादातर लोग अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी), अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) वर्ग के होते हैं।

उनके इस कथित बयान पर बहुजन समाजवादी पार्टी प्रमुख मायावती ने उन्हें गिरफ्तार किए जाने की मांग की है। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक मायावती ने पत्रकारों से कहा, “उन्हें तुरंत माफी मांगनी चाहिए। हमारी पार्टी उनके बयान की भर्त्सना करती है। हमारी पार्टी राजस्थान सरकार से मांग करती है कि उनके खिलाफ तुरंत मामला दर्ज करके कड़ी कार्रवाई करे और उन्हें जेल भेज दिया जाए।”

इस मामले में एक व्यक्ति की शिकायत के बाद पुलिस ने आशीष नंदी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। जयपुर साहित्य उत्सव में परिचर्चा के दौरान आशीष नंदी ने कहा, ”ज्यादातर भ्रष्ट लोग ओबीसी, एससी और एसटी समुदायों के होते हैं।” उन्होंने कहा, ”जब तक ऐसा होता रहेगा, भारत के लोग भुगतते रहेंगे।”

बयान पर क़ायम

आशीष नंदी ने बाद में कहा कि वह अपने बयान पर क़ायम हैं और अपने खिलाफ किसी भी तरह की पुलिस कार्रवाई के लिए तैयार हैं। आशीष नंदी का कहना है कि उनके बयान को गलत परिप्रेक्ष्य में समझा गया है। परिचर्चा में मौजूद कुछ पत्रकारों समेत श्रोताओं में से भी ज्यादातर लोगों ने नंदी के इस बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है। लेकिन नंदी ने बाद में सफाई देते हुए कहा, ”आप किसी गरीब आदमी को पकड़ लेते हैं जो 20 रूपये के लिए टिकट की कालाबाज़ारी कर रहा होता है और कहते हैं कि भ्रष्टाचार हो रहा है लेकिन अमीर लोग करोड़ों रूपये का भ्रष्टाचार कर जाते हैं और पकड़ में नहीं आते हैं।”

वहीं परिचर्चा के पहले हिस्से में ‘विचारों का गणतंत्र’ विषय के आलोक में भारतीय गणतंत्र पर चर्चा करते हुए लेखक और पत्रकार तरुण तेजपाल ने कहा कि भ्रष्टाचार हर वर्ग, हर तबके में है। तरुण तेजपाल ने नाराज़गी जाहिर करते हुए मीडिया पर आरोप लगाया है कि आशीष नंदी के बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है।

आशीष नंदी के कथित बयान के विरोध में मायावती बहुजन समाजपार्टी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है, ”पार्टी मांग करती है कि इस मामले में राजस्थान सरकार को तुरंत उनके खिलाफ एससी-एसटी एक्ट और अन्य सख्त कानूनी धाराओं में तहत कार्रवाई सुनिश्चित करके जल्द से जेल भेज देना चाहिए।” (सागर तिवारी-संवाददाता,एजेंसी)

Leave a Reply