Monday, September 6, 2021

मुलायम, अखिलेश से तल्खी, शिवपाल से प्यार

amar_singh_cash_for_voteडीडीसी न्यूज़ नेटवर्क।।लखनऊ।। लखनऊ में अमर सिंह ने यह साफ किया कि वह अभी समाजवादी पार्टी में नहीं जा रहे हैं लेकिन लोकसभा चुनाव लड़ेंगे या नहीं इस सवाल पर भी उन्होंने कुछ बोलना जरूरी नहीं समझा। गाजियाबाद में कांग्रेसी बैनर पर अमर सिंह की तस्वीरें लगी हैं के सवाल पर अमर सिंह ने कहा कि वह किसी के यहां गए थे वहां के लोगों ने उनकी तस्वीरें लगा दी।   इस सबसे अलग एक बात तो तय है कि अमर सिंह ने अपना जन्मदिन मुजफ्फरनगर में पीड़ितों को कंबल बांटकर मनाने का फैसला कर जन्म दिन को भी सियासी बना दिया है। 

अमर सिंह के भले ही समाजवादी पार्टी में जाने की अटकलें तेज होती जा रहीं हैं लेकिन अमर सिंह का कहना है कि ये ख़बरें केवल भ्रामक हैं । अमर सिंह ने खुदकर कहा कि वो मुलायम सिंह का तलवा चाटने नहीं आए हैं। विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद पहली बार अमर सिंह ने लखनऊ में समाजवादी पार्टी को आईना दिखाने का दम दिखाया। अमर सिंह ने मुलायम और अखिलेश को निशाने पर लेते हुए कहा कि उन्होंने यूपी को उल्टा प्रदेश बना दिया है। शिवपाल यादव से अच्छे रिश्ते होने का हवाला देते हुए अमर सिंह ने मुलायम सिंह के भाईयों पर टिप्पणी की, उन्होंने कहा कि एक भाई ललकारता है तो दूसरा भाई पुचकारता है। निशाना साफ था राम गोपाल यादव ललकारते हैं तो शिवपाल यादव पुचकारते हैं।

आज भले ही अमर सिंह और जया प्रदा समाजवादी पार्टी से ही सांसद हैं लेकिन अमर सिहं का आरोप है कि मुलायम सिंह ने उनकी राज्यसभा ख़त्म करवाने की पूरी कोशिश की थी। अमर सिंह ने सैफई महोत्सव और मुजफ्फरनगर को लेकर भी मुलायम सिंह के समाजवाद और अखिलेश सरकार पर निशाना साधा। अमर सिंह ने कहा कि अपना जन्मदिन भी वो मुजफ्फरनगर में कंबल बांटकर दंगा पीड़ितों के साथ ही बनाएंगे। लोकसभा चुनाव लड़ने के सवाल को टालते हुए अमर सिंह ने मुलायम के सियासी परिवारवाद पर भी चुटकी ली। अमर सिंह ने सियासी कुनबे में डिंपल यादव को शामिल करते हुए कहा कि आने वाले समय में सपा 60 से 70 सीटें जीतेगी ।

अमर सिंह के समाजवादी पार्टी पर सियासी हमले और शिवपाल यादव से प्रेम को लेकर ऐसा लगता है कि यह भी एक सियासी ड्रामा है। अमर सिंह भले ही समाजवादी पार्टी में न आने को लेकर न कह रहे हैं लेकिन कब हां कह देंगे इसे मुलायम सिंह ही जानते हैं।

Leave a Reply