Sunday, September 5, 2021

सम्मान चाहिए मुलायम का साथ नहीं- मायावती

Akhilesh_Reduce15007लखनऊ/दिल्ली. मुलायम के लिए सत्ता सबकुछ है, लेकिन मेरे लिए मान-सम्मान। यह कहना है यूपी की चार बार मुख्यमंत्री रही मायावती का। जब लालू-नीतीश की जोड़ी ने एक कार्यक्रम के दौरान मुलायम-मायावती को भी एकजुट होने का गुरुमंत्र दिया तो मायावती पर, तो इसका असर नहीं हुआ। मुलायम लालू-नीतीश के मंत्र से मंत्रमुग्ध हो गए और उसने मायावती के सामने एकजुट होने का प्रपोजल रख दिया, लेकिन मायावती ने दो टूक कह दिया कि मुझे यह प्रस्ताव मंजूर नहीं है, मेरे लिए सत्ता नहीं मेरा मान सम्मान बड़ा है।

सवाल यह भी है कि क्या मायावती ने मान-सम्मान की खातिर ही मुलायम के प्रस्ताव को ठुकरा दिया या फिर इसके पीछे कुछ और कहानी है? इस कहानी को समझने के लिए मुलायम और माय़ावती के राजनीतिक समीकरणों को अलग-अलग समझना जरूरी है

मुलायम क्या गंभीर थे गठबंधन के लिए?

क्या मुलायम सिंह यादव सचमुच चाहते थे कि भाजपा से टक्कर लेने की लिए बिहार की तर्ज पर यूपी में भी दो प्रतिद्वंद्वियों में गठबंधन हो जाए या फिर यह लालू-नीतीश के आह्वान का असर मात्र था या फिर मीडिया के दबाव में की गई पहल। यदि, मुलायम सचमुच गंभीर थे, तो इस तरह की पहल सरेआम मीडिया के माध्यम से नहीं होती यह, तो आपस की बात थी, जिसे आपसी सहमति के बाद मीडिया में एलान मात्र करना था, लेकिन यहां, तो मीडिया के एलान के बाद पहल की गई।

मुलायम ने क्यों की पहल

लालू-नीतीश ने, तो सपा और बसपा दोनों से गठबंधन की अपील की थी, पर मुलायम ने इसकी पहल क्यों की। इसके पीछे दो कारण हो सकते हैं-

पहला- एक, तो उन्होंने मुस्लिम वोटरों को यह संदेश देकर उससे सहानूभूति हासिल करने की कोशिश की है कि वह भाजपा जैसी तथाकथित सांप्रदायिक पार्टी को मात देने की लिए मायावती जैसी कट्टर राजनीतिक दुश्मन से भी समझौते के लिए तैयार हैं।

दूसरा- दूसरा और सबसे महत्वपूर्ण कारण है कि सपा अपने आप को यूपी में भाजपा का मुख्य प्रतिद्वंद्वी पार्टी साबित करना चाहती है और चाहती है कि वह हर हाल में यूपी में बसपा से ऊपर रहे।
इस तरह मुलायम ने इस पहल के साथ एक तीर से दो शिकार करने की कोशिश की हैं।

मायावती ने क्यों ठुकराया मुलायम का प्रस्ताव

यह सच है कि इस लोकसभा चुनाव में बहुजन समाजवादी पार्टी को करारी हार का मुंह देखना पड़ा, लेकिन आंकड़े बतातें हैं कि फिर भी उनका वोट प्रतिशत कम नहीं हुआ है। मायावती ने मुलायम को न कह दिया। इसके पीछे भी दो कारण हो सकते हैं।

1995 का जख्म अभी भरा नहीं है

मुलायम के प्रस्ताव पर मायावती ने 1995 की घटना का याद दिलाया। उन्होंने कहा कि जब उस दिन मुझ पर जानलेवा हमला किया गया, उसी तरह का हमला यदि लालू की बहन-बेटी पर होता, तो क्या लालू इस तरह का गठबंधन करना चाहते? गौरतलब है कि 2 जून 1995 को एक मीटिंग के दौरान मायावती पर तथाकथित रूप से हमला किया गया था। भीड़ ने उनको भद्दी गालियां भी दी थी। उस वक्त मायावती ने घंटों तक अपने को कमरे में कैद कर अपनी जान बचाई थी। बाद में मायावती हमेशा से मुलायम पर हत्या की साजिश का आरोप लगाती रही है।

पहला- अपने वोट बैंक को आश्वासन

मायावती ने मुलायाम को न कहकर अपने वोट बैंक को साफ आश्वासन दिया है कि उन्हें कहीं जाने की कोई आवश्यकता नहीं है। हम अभी भी उनके हित के लिए और उनके साथ खड़े हैं। उन्हें बिखरने की कोई आवश्यकता नहीं है.

दूसरा- मायावती की दूरदर्शिता

मायावती के साथ उनका करीब 20 प्रतिशत दलित वोट बैंक उनके साथ है। मायावती की सोंच रही होगी कि यदि अल्पसंख्यकों का भी सहयोग, उन्हें मिल जाता है, तो भाजपा को पराजित करने के लिए उनके पास बेहतर विकल्प हो सकता है। ऐसे में वह मुलायम के साथ गठबंधन कर नहीं चाहती कि उसकी खुद की राजनीतिक क्षमता पर कोई सवाल उठे।

अपने दलित वोट बैंक की बदौलत मायावती अपने आप को हमेशा से एक मजबूत दावेदार मानती रही हैं, लेकिन इस बार के लोकसभा चुनाव ने उनकी इस धारणा को तोड़ दिया। ऐसे में मुलायम के प्रस्ताव को खारिज कर मायावती ने फिर से अपने बुलंद इरादों का परिचय दिया है। अब इस फैसले के बाद यूपी में मायावती का ‘मान-सम्मान’ कितना बचता है वह आगे होने वाले विधान सभा चुनाव में तय हो जाएगा। (कुछ इनपुट प्रभात खबर से)

Leave a Reply