Tuesday, August 31, 2021

BJP नेता की जीभ काटने वाले को, 1 करोड़ रुपये का इनाम देगा ये दलित नेता

कर्नाटक। केंद्रीय कौशल विकास राज्‍यमंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने एक बेहद ही विवादित बयान दिया है। उनके इस बयान के बाद पिछड़ी जाति और अल्पसंख्यक के लोगों में जबरदस्त नाराजगी है। हेगड़े ने धर्मनिरपेक्षता पर विवादास्‍पद बयान दिया है। उन्होंने कर्नाटक में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि “धर्मनिरपेक्ष और प्रगतिशील होने का दावा वे लोग करते हैं, जिन्‍हें अपने मां-बाप के खून का पता नहीं होता है।

 

अनंत कुमार हेगड़े

गुरुशांत कालाबुर्गी जिला पंचायत के मेंबर

केंद्रीय मंत्री हेगड़ ने लोगों को खुद की पहचान धर्मनिरपेक्ष के बजाय धर्म और जाति के आधार पर करने की वकालत भी की। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि इस सोच के साथ संविधान में बदलाव भी किया जा सकता है और इसीलिए हम लोग यहां हैं। उनके इसी बयान से हंगामा खड़ा हो गया है।

जिसका विरोध करते हुए AIMIM ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन के नेता गुरुशांत पट्टेदार ने भी एक विवादित ऐलान कर दिया। उन्होंने हेगड़े की जुबान काटकर लाने वाले को 1 करोड़ रुपए इनाम में देने का ऐलान कर दिया है। गुरुशांत कालाबुर्गी जिला पंचायत के मेंबर भी हैं।

पिछड़ी जाति और अल्पसंख्यकों की भावनाओं को ठेस

गुरुशांत पट्टेदार ने स्थानीय मीडिया से बात करते हुए कहा कि अनंत कुमार हेगड़े ने पिछड़ी जाति और अल्पसंख्यकों के लिए बहुत अपमानजनक बातें कही हैं। इसलिए आज मैं ऐलान करता हूं कि जो कोई भी दिन खत्म होने से पहले हेगड़े की जुबान काट कर लाएगा उसे मैं 1 करोड़ रुपए का इनाम दूंगा।

अनंत कुमार हेगड़े

बता दें कि अनंत हेगड़े कोप्‍पल जिले के कालाबुर्गी में ब्राह्मण युवा परिषद और महिलाओं के एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। जिस दौरान उन्होंने यह बातें कहीं थीं। जिससे पिछड़ी जाति और अल्पसंख्यकों की भावनाओं को ठेस पहुंची है।

उन्‍होंने कहा, “मुझे बहुत खुशी होगी यदि कोई व्‍यक्ति खुद की पहचान मुस्लिम, ईसाई, ब्राह्मण, लिंगायत या हिंदू के तौर पर करता है। इस तरह की पहचान से व्यक्ति को आत्‍मसम्‍मान हासिल होता है। कोई भी समस्‍या तब खड़ी होती है जब कोई खुद को धर्मनिरपेक्ष कहता है।’

सीएम सिद्धारमैया ने की आलोचना

हेगड़े ने यहां तक कह दिया कि वे भारतीय संविधान का सम्मान तो करते हैं, लेकिन आने वाले दिनों में संविधान भी बदल जाएगा। हेगड़े के इस बयान पर कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया ने आलोचना करते हुए कहा कि बीजेपी नेता संसदीय और राजनीतिक भाषा नहीं जानते। हेगड़े को संस्‍कृति का ज्ञान ही नहीं है।

कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने भी जताई आपत्ति

कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने भी हेगड़े के इस बयान पर आपत्ति जताते हुए कहा, कि “हमारा देश धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांत पर बना है और इसमें सभी जातियों, पंथों, नस्लों और धर्मो के सह-अस्तित्व यानी मिलजुलकर रहने का प्रावधान है।

भाजपा हेगड़े को अपमानजनक बयान देने की छूट दे रही है।” बता दें कि हेगड़े को इसी साल सितंबर में हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल के क्रम में केंद्रीय मंत्री बनाया गया है। वह उत्तर कर्नाटक निर्वाचन क्षेत्र से पांच बार लोकसभा सदस्य भी चुने जा चुके हैं।

 

फोटो-फाइल