Sunday, August 29, 2021

ADG आनंद कुमार ने बताया, बुलंदशहर हिंसा में किस संगठन का हाथ है !

बुलंदशहर. उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह का अंतिम संस्कार एटा स्थित उनके पैतृक गांव में किया जा रहे है। सुबोध कुमार सिंह की हत्या के 24 घंटे बाद पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है लेकिन मुख्य आरोपी योगेश राज अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।

बुलंदशहर हिंसा

ADG लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने बताया है कि योगेश राज की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा है कि इस घटना में किसी संगठन का हाथ नहीं है और योगेश का संबंध किसी संगठन से संबंध है या नहीं कह नहीं सकते हैं।

ADG लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने कहा कि सुबोध कुमार हमारे लिए शहीद है और उन्हें शहीद का दर्जा ही दिया जाएगा। उनके परिवार की जो भी शिकायतें है उसे दूर करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने बताया कि सुबोध कुमार सिंह मुज्जफरनगर कांड की जांच अधिकारी थे लेकिन जांच उन्होंने फाइनल नहीं की थी। इस मामले में किसी अन्य अधिकारी ने मामले चार्जशीट दाखिल की थी और किन कारणों से उनका ट्रांसफर किया गया इसका खुलासा नहीं कर सकता।

पुलिस ने हवा में की थी फायरिंग

ADG आनंद कुमार ने कहा कि पहले ग्रामीणों की तरफ से फायरिंग की बात सामने आई है और पुलिस की तरफ से हवा में फायरिंग की गई थी। एफआईआर में भी ये बात कहीं गई है। उन्होंने कहा कि इस घटना में 18 से 20 वर्षीय सुमित की भी मौत हुई है और उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गोली लगने से मौत की पुष्टी हुई है। उन्होंने बताया कि मामले की जांच की जा रही है कि वह प्रत्यक्षदर्शी था या भी हमलावर।

आरोपियों की पहचान के लिए खंगाले जा रहे हैं वीडियो

ADG ने बताया कि इस मामले में अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 27 लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट है। उन्होंने बताया कि नामजद लोग भीड़ में सबसे आगे थे और इसमें 50 अन्य लोग थे जिनकी पहचान के लिए वीडियो खंगाले जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि योगेश राज भी इस मामले में नामजद आरोपी है और उसकी गिरफ्तारी की कोशिशें जारी है। इस मामले में किसी संगठन का हाथ नहीं है और किसी भी निर्दोष को सजा नहीं होगी।