Wednesday, September 8, 2021

मुख्यमंत्री से ज्यादा अमीर है ये ढाई साल का पोता, जानिये कितने करोड़ का है मालिक

नई दिल्ली. आंध्र प्रदेश से एक ऐसी खबर सामने आई है। जिसे सुनकर हो सकता है आपको विश्वास न हो। खबर है कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू अपने पोते से गरीब हैं। जी हां ये बिल्कुल सच है।

आपको बता दें चंद्रबाबू नायडू के पोते ढाई साल के नारा देवांश 11 करोड़ की प्रॉपर्टी के मालिक हैं, जबकि उनके दादा चंद्रबाबू के पास कुल प्रॉपर्टी 2.53 करोड़ रुपए की है। नायडू परिवार की ओर से पेश किए गए ब्यौरे में यह जानकारी सामने आई है।

 

चंद्रबाबू नायडू अपने पोते से गरीब

 

नायडू पर कुल 5.64 करोड़ की देनदारी

चंद्रबाबू नायडू और उनके परिवार ने लगातार सातवीं बार अपनी प्रॉपर्टी का ब्यौरा सार्वजनिक किया है; जिसके अनुसार सीएम चंद्रबाबू नायडू पर कुल 5.64 करोड़ की देनदारी है जबकि उनकी संपत्ति 2.53 करोड़ रुपए की है।

 

सेविंग अकाउंट में 40 लाख रुपए

नायडू के बेटे नारा लोकेश ने अपने परिवार की प्रॉपर्टी का ब्यौरा देते हुए कहा कि सीएम चंद्रबाबू ने बैंक ऑफ बड़ोदा से हाउसिंग लोन ले रखा है। वहीं, उनके सेविंग अकाउंट में 40 लाख रुपए हैं।

हैदराबाद में साढ़े 9 करोड़ की कीमत वाला घर

सीएम नायडू पर 1.52 लाख की एंबेसडर कार और 7.75 लाख कीमत का हैदराबाद में घर है जबकि पोते देवांश पर कैश के अलावा हैदराबाद के पॉश इलाके जुबली हिल्स में साढ़े 9 करोड़ की कीमत वाला घर है।

 

चंद्रबाबू नायडू अपने पोते से गरीब

 

पत्नी सबसे अमीर

वहीं, 25.41 करोड़ की प्रॉपर्टी के साथ सीएम की पत्नी भुवनेश्वरी नायडू परिवार में सबसे अमीर हैं।

आंध्र प्रदेश सरकार में मिनिस्टर और टीडीपी के महासचिव लोकेश ने बताया कि नायडू परिवार का हैरिटेज फूड्स का कारोबार है और इसकी मैनेजिंग डायरेक्टर उनकी मां ही हैं। वहीं, नारा लोकेश ने खुद के पास 15.21 करोड़ की संपत्ति बताई।

इसके अलावा नारा लोकेश की पत्नी और सीएम की बहू नारा ब्राह्मनी के पास कुल 15.01 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी है। वे हैरिटेज फूड्स की डायरेक्टर हैं।

 

चंद्रबाबू नायडू अपने पोते से गरीब

जगन पर साधा निशाना

लोकेश ने दावा किया कि देश में उनका ही परिवार ऐसा है जो प्रॉपर्टी का नियमित रूप से ब्यौरा पेश करता है। उन्होंने विपक्षी दलों को भी अपनी संपत्ति की घोषणा करने की चुनौती दी है।

सीएम के बेटे ने कहा कि विपक्षी पार्टियों ने उनके और उनकी कंपनी के खिलाफ कई आरोप लगाए हैं लेकिन उनमें से किसी एक को भी साबित नहीं किया। लोकेश ने विपक्षी दल वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष वाईएस जगनमोहन रेड्डी से पूछा कि उन्होंने कभी अपनी संपत्ति क्यों नहीं घोषित की।