Tuesday, August 31, 2021

राम मंदिर के लिए अध्यादेश या कानून तुरंत बनाए सरकार: बाबा रामदेव

वाराणसी। योग गुरु बाबा रामदेव की अयोध्या में श्रीराम का मंदिर बनने के पक्ष में हैं। कल वाराणसी में उन्होंने साफ कहा कि राम मंदिर मुद्दे पर समझौते का दौर निकल चुका है।

बाबा रामदेव

सतुआ बाबा के आश्रम में बाबा रामदेव ने कहा कि अब एक ही विकल्प है, संसद में कानून ले आओ मंदिर जल्द बनाओ। अभी नहीं तो कभी नहीं, इसी पर हमें काम करना है। दो दिनी प्रवास पर वाराणसी आए बाबा रामदेव ने मणिकर्णिकाघाट पर सतुआ बाबा आश्रम में मीडिया से वार्ता की। उन्होंने अयोध्या में विहिप की धर्म सभा और इसे लेकर दूसरे पक्ष की आशंकाओं पर कहा कि धर्म संसद मात्र संसद पर दबाव बनाने के लिए नहीं।

सुप्रीम कोर्ट से इतना विलंब हो रहा कि लोगों के सब्र का बांध टूट गया है। संसद संविधान और लोकतंत्र का सबसे बड़ा मंदिर है। बाबा रामदेव ने कहा कि भगवान राम हिंदुओं के साथ मुस्लिम के पूर्वज हैं। सरकार यदि राम मंदिर के मुद्दे पर संसद में कानून लाती है तो कोई विरोध की हिम्मत नहीं जुटा पाएगा, क्योंकि इस देश में राजनीतिक दलों का परस्पर विरोध हो सकता है मगर भगवान राम का कोई विरोध इस राष्ट्र में नहीं है।

हिंदुस्तान में हिंदू व मुसलमान किसी को कोई खतरा नहीं है क्योंकि अहिंसा व प्रेम हमारी संस्कृति का मूल तत्व हैं। मजहबी उन्माद राष्ट्र में नहीं है लेकिन यदि राम मंदिर नहीं बना तो देश में सांप्रदायिक माहौल जरूर गरमाएगा। अब नहीं तो कब- बाबा रामदेव ने जोर देते हुए कहा कि मंदिर बनाने के लिए अध्यादेश या कानून, संसद में तुरंत बनना चाहिए। 25 वर्ष से ज्यादा बीत गए गंभीर संघर्ष के और सैकड़ों वर्ष बीत गए इस पूरे मुकदमे के, आखिर अब नहीं तो कब ये निर्णय होगा। इसलिए संसद ही अब अंतिम आस है।

बाबा रामदेव ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की अपनी हद है। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश कह चुके हैं कि संसद इस बात के लिए स्वतंत्र है और संविधान ने उसे अधिकार दिए हैं।

दिसंबर तक पतंजलि परिधान

बाबा रामदेव ने गंगापार रेती में कल पतंजलि परिधान के लिए विज्ञापन फिल्म की शूटिंग की। उन्होंने कहा पतंजलि परिधान का शोरूम दिसंबर तक बनारस में खुल जाएगा। इसमें तीन ब्रांड व 300 वेरायटी होंगी।