Friday, August 27, 2021

2019 से पहले पीएम मोदी की अग्निपरीक्षा, यहां झोकेंगे सबसे ज्यादा ताकत !

नई दिल्ली. अगले साल 2019 में लोकसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में इससे पहले 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव की किसी अग्निपरीक्षा से कम नहीं है। एक प्रकार से 5 राज्यों के ये चुनाव लोकसभा चुनाव का सेमी फाइनल माना जा रहा है।

पीएम मोदी

अगले महीने 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में भाजपा मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा ताकत झोंकने जा रही है। भाजपा ने बड़ी संख्या में नए चेहरों पर दांव लगाने के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सबसे ज्यादा सभाएं भी यहां कराने का फैसला किया है।

प्रधानमंत्री चुनाव प्रचार में मध्य प्रदेश में कम से कम 5 दिन देंगे और 20 से ज्यादा सभाओं को संबोधित करेंगे। जबकि राजस्थान में लगभग पंद्रह सभाएं करने की संभावना हैं। पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही भाजपा के सबसे बड़े स्टार प्रचारक होंगे।

सूत्रों के अनुसार, वे प्रचार करेंगे। एमपी में 20, राजस्थान में लगभग 15, छत्तीसगढ़ में लगभग छह, तेलंगाना में लगभग पांच व मिजोरम में दो सभाएं करने की संभावना है। पांचों राज्यों में सबसे ज्यादा सभाएं शाह की होंगी।

कांग्रेस भी कर रही है कड़ी मशक्कत

भाजपा की रणनीति में मध्यप्रदेश के पहले स्थान पर रखा गया है। यहां पर कांग्रेस एक-एक सीट के लिए उम्मीदवार तक करने के लिए कड़ी मशक्कत कर उसे चुनौती देने की कोशिश कर रही है।

छत्तीसगढ़ में भाजपा कांग्रेस से आगे मान रही है। वहां पर भाजपा से प्रमुख केंद्रीय नेता तो प्रचार करेंगे ही, लेकिन मुख्यमंत्री रमन सिंह पर सारा दारोमदार रहेगा।

पार्टी का मानना है कि छत्तीसगढ़ में उसे त्रिकोणीय मुकाबले में लाभ होगा। पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी बसपा में तालमेल से चुनाव मैदान में है, जो कांग्रेस की कमजोर कड़ी माना जा रहा है।

सूत्रों के अनुसार, मध्य प्रदेश पर ज्यादा केंद्रित होने की वजह राजस्थान की डांवाडोल स्थिति है। वहां भाजपा को कांग्रेस से कड़ी चुनौती मिल रही है।

ऐसे में राजस्थान में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को यह संदेश देना पड़ रहा है कि वह उनकी तरफ देखें और भरोसा करे कि राजस्थान का विकास और तेजी से होगा।