Friday, September 3, 2021

BIG BREAKING. चारा घोटाले में लालू यादव दोषी करार, ये आया फैसला

पटना. राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के खिलाफ कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दे दिया गया है, जबकि जगन्नाथ मिश्रा समेत सभी को बरी कर दिया गया है। लालू प्रसाद यादव को फौरन जेल भेजा जा रहा है।

पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया है। मामले की सजा 3 जनवरी को सुनाई जाएगी। आज फैसले के समय कोर्ट में पूर्व मुख्यमंत्री तेजश्वी यादव भी मौजूद रहे। कोर्ट में पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र भी मौजूद रहे। चारा घोटाले मामले में सीबीआई की विशेष अदालत सुनवाई कर रही थीं।

 

लालू यादव

 

LIVE UPDATE

 

फैसला का वक्त टलने के बाद लालू यादव एक बार फिर सीबीआई कोर्ट पहुंच गए थे। उनके पहुंचने पर कोर्ट के बाहर मौजूद समर्थकों ने जय ‘भोलेनाथ’ का जयकारा किया। लालू यादव और पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा समेत सभी 22 अभियुक्त कोर्ट रूम पहुंच गए थे। कोर्ट रूम में जज के पहुंचने तक सभी अभियुक्त एक दूसरे कमरे में बैठे रहे।

 

यह भी पढ़े.भीख मांग रहे शख्स का आधार कार्ड से हुआ खुलासा तो उड़ गये सबके होश.

 

ये हैं आरोपी

इस केस में लालू प्रसाद के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा, बिहार के पूर्व मंत्री विद्यासागर निषाद, पीएसी के तत्कालीन अध्यक्ष जगदीश शर्मा एवं ध्रुव भगत, आर के राणा, तीन आईएएस अधिकारी फूलचंद सिंह, बेक जूलियस एवं महेश प्रसाद, कोषागार के अधिकारी एस के भट्टाचार्य, पशु चिकित्सक डा. के के प्रसाद तथा शेष अन्य चारा आपूर्तिकर्ता आरोपी थे. सभी 38 आरोपियों में से 11 की मौत हो चुकी है, जबकि तीन सीबीआई के गवाह बन गए हैं. वहीं दो ने अपना गुनाह कुबूल कर लिया था, जिसके बाद उन्हें 2006-07 में ही सजा सुना दी गई थी.

इस प्रकार इस मामले में आज अदालत कुल 22 आरोपियों के खिलाफ ही अपना फैसला सुनाएगी. शिवपाल सिंह की अदालत ने इस मामले में सभी पक्षों के गवाहों के बयान दर्ज करने और बहस के बाद अपना फैसला 13 दिसंबर को सुरक्षित रख लिया था.

कितनी हो सकती है सजा

लालू के वकील चितरंजन प्रसाद ने बताया कि इस मामले में यदि लालू और अन्य को दोषी ठहराया जाता है, तो उन्हें अधिकतम सात साल और न्यूनतम एक साल की कैद की सजा होगी, हालांकि, सीबीआई अधिकारियों के मुताबिक, इस मामले में गबन की धारा 409 के तहत 10 साल और धारा 467 के तहत आजीवन कारावास की भी सजा हो सकती है।

 

फोटो-फीचर