Tuesday, September 7, 2021

बसपा नेता और उनके चालक की गोली मारकर हत्या, माफिया खान समेत 11 पर केस दर्ज

अंबेडकर नगर। सोमवार की सुबह करीब 10 बजे असलहाधारी बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर बसपा नेता जुरगाम मेहंदी और उनके चालक की हत्या कर दी। गोली बारी मे दो राहगीर घायल हो गए। दोनों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दुस्साहसिक घटना से इलाके में दहशत का माहौल पैदा हो गया है। घटना से लोगों मे भारी गुस्सा है। माफिया खान मुबारक समेत 11 लोगों के खिलाफ हत्या और साजिश की धाराओं में हंसवर थाने में मुकदमा दर्ज हुआ है।

बसपा नेता और उनके चालक की गोली मारकर हत्या, माफिया खान समेत 11 पर केस दर्ज

हंसवर थाना क्षेत्र के नसीराबाद निवासी बसपा नेता जुरगाम मेहंदी अपने समर्थकों के साथ लग्जरी कार से किसी काम से घर से टांडा जा रहे थे। हीरापुर बाजार के पास तीन बाइक पर सवार छह की संख्या में बदमाशों ने कार पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी। जुरगाम और चालक को कई गोली लगने से घायल हो गए। कार में सवार एक अन्य साथी सभी को लेकर जिला अस्पताल पहुंचा जहां चिकित्सकों ने बसपा नेता जुरगाम और चालक सुबनीत यादव निवासी नसीराबाद थाना हंसवर को मृत घोषित कर दिया। गोली चलने से राहगीर रामनेवाज और संजय निवासी सेवईपार जनपद संतकबीरनगर घायल हुए दोनों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

दोनों की हालत गंभीर बताई गई है। बसपा नेता की हत्या की खबर सुनकर समर्थकों की भारी भीड़ जिला अस्पताल में आ गई। आक्रोशित समर्थकों और पुलिस से जमकर नोकझोंक हुई। स्थिति को गंभीरता से देखते हुए कई थानों की फोर्स बुलाई गई। इस बीच विभिन्न सियासी दलों के नेता भी पहुंच गए।बसपा नेता जुरगाम अधिवक्ता भी हैं।

बताया जाता है कि पिछले दिनों भी जुरगाम पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर घायल कर दिया गया था काफी दिनों के इलाज के बाद स्वस्थ हुए थे। हाल ही में जुरगाम ने डीएम, एसपी को शिकायती पत्र देकर अपनी हत्या की आशंका प्रकट करते हुए सुरक्षा की मांग की थी। बसपा नेता के खिलाफ एक दर्जन से अधिक आपराधिक मामले दर्ज हैं।

जेल में निरूद्ध माफिया खान मुबारक और बसपा नेता जुरगाम मे पिछले 10 वर्षों से दुश्मनी चल रही थी। जुरगाम की हत्या के मामले में शक की सूई खान मुबारक पर घूम रही है। खान मुबारक का बड़ा भाई जफर सुपारी अंडरवर्ल्ड से जुड़ा है। इस समय मुम्बई मे हत्या की चर्चित घटना में जफर सुपारी को आजीवन कारावास की सजा मिली है।

पुलिस भी जुरगाम की हत्या में खान मुबारक का हाथ होने की बात से इंकार नहीं किया है। जिला अस्पताल पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है। लोगों मे भारी गुस्सा है। अभी भी दोनों की लाश जिला अस्पताल में रखी गई है।

पुलिस अधीक्षक विपिन कुमार मिश्र ने बताया कि माफिया खान मुबारक समेत 11 लोगों के खिलाफ हत्या और साजिश की धाराओं में हंसवर थाने में मुकदमा दर्ज हुआ। दोनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजने की कार्यवाही की जा रही है। बदमाशों की तलाश में पुलिस संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है। उधर, घटना के विरोध में कलेक्ट्रेट समेत अन्य जगहों पर सड़क जामकर समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन किया।