Saturday, September 4, 2021

बुलंदशहर हिंसा : जनरल बिपिन रावत ने फौजी जीतू को लेकर कही ये बड़ी बात !

New Delhi. बुलंदशहर हिंसा (Bulandshahr Violence) में हुई इंस्पेक्टर सुबोध (Inspector Subodh Kumar) की हत्या में सबसे अहम माना जा रहा जीतू फौजी पुलिस के शिकंजे में आ गया है। वहीं बुलंदशहर हिंसा में सेना के जवान जितेंद्र मलिक (जीतू फौजी) की गिरफ्तारी को लेकर पूछे गए सवाल पर जनरल बिपिन रावत (Bipin Rawat) ने कहा कि अगर कोई सबूत होगा और पुलिस उन्हें संदिग्ध मानेगी तो हम उन्हें पुलिस के सामने पेश कर देंगे। हम पुलिस के साथ पूरा सहयोग करेंगे।

बिपिन रावत

सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) डीएस हुड्डा के बयान पर बोले सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा है कि यह निजी विचार हैं, इसलिए उन पर टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। वह (हुड्डा) इस ऑपरेशन से जुड़े मुख्य व्यक्तियों में से एक थे, इसलिए मैं उनके शब्दों का काफी सम्मान करता हूं।

कौन है फौजी जीतू

गांव महाव के रहने वाले आरोपी जीतू फौजी के पिता राजपाल सिंह किसान हैं, जबकि उसकी मां रतनकौर घरेलू महिला हैं। तीन बहनों की शादी हो चुकी है। दो भाइयों में सबसे छोटा जीतू भी पढ़ने-लिखने में होशियार रहा है। मां रतनकौर के अनुसार शुरू से ही जीतू सेना में जाना चाहता था और करीब तीन साल पहले उसका चयन सेना में हो गया। फौजी जीतू इन दिनों कश्मीर के कारगिल में तैनात है। वह बीस दिन पहले ही अपनी भांजी की शादी के लिए छुट्टी पर आया था। उसकी छुट्टी मंगलवार को खत्म हो गई थी। सोमवार को हुई हिंसा के बाद शाम को ही वह अपनी ड्यूटी के लिए निकल गया था।

आरोपी जीतू का नाम हिंसा में आने और इंस्पेक्टर को गोली मारने के बारे में पूछे जाने पर मां रतनकौर ने उसे निर्दोष बताया। रतनकौर ने कहा कि बीते कुछ दिनों से उनका बाहर ही आना-जाना रहा है। उन्हें बस इतना मालूम है कि घटना के वक्त जीतू वहां पर नहीं था।

वायरल वीडियो में दिखा था फौजी जीतू

बुलंदशहर बवाल को लेकर 2.48 मिनट का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक युवक को इंस्पेक्टर की लाश के पास से कुछ उठाते हुए दिखाया गया है। इसी युवक पर इंस्पेक्टर को गोली मारने का भी संदेह अधिकारियों को है। इस युवक की शिनाख्त महाव गांव के जीतू फौजी के रूप में होने का दावा किया जा रहा है। उसके बारे में जानकारी करने पर पता चला कि वह कारिगल में तैनात है और हिंसा के बाद ही वह शाम को निकल गया था और अगले ही दिन उसने अपनी ड्यूटी ज्वाइन कर ली थी।