Saturday, September 4, 2021

लखनऊ में मनाई गई पत्रकार एन. यादव की पुण्यतिथि

13418886_1219555314721423_3681551660666584034_nलखनऊ ।। राजधानी लखनऊ के अंबेडकर महासभा में वरिष्ठ पत्रकार एन यादव की पहली पुण्यतिथि मनाई गई। आज अखबार के ब्यूरोचीफ रहे स्वर्गीय एन. यादव का पिछली वर्ष 7 जून को ह्दयगति रुक जाने से स्वर्गवास हो गया था। मंगलवार को डॉ. अंबेडकर महासभा (विधानसभा के सामने) में उनकी पहली पुण्यतिथि पर रिटायर्ड आईएएस अधिकारी गंगादीन यादव मुख्य अतिथि रहे। उन्होंने कहा कि वह निर्भीक थे, ऐसे पत्रकार बहुत कम होते हैं। इस दौरान अखिल भारतवर्षीय यादव महासभा के राष्ट्रीय महासचिव प्रमोद चौधरी और आउटलुक के वरिष्ठ पत्रकार कुमार पंकज भी सभा में शामिल हुए। कार्यक्रम का आयोजन स्वराज अभियान, पत्रकार सत्ता और डिजिटल मीडिया एसोसिएशन की ओर से किया गया था।

न्यूज 85डॉट इन के संपादक और लखनऊ इकाई के स्वराज अभियान के जिला अध्यक्ष अनुराग यादव ने कार्यक्रम का संचालन किया। इस दौरान उन्होंने अपने विचार भी रखे। अनुराग ने कहा कि पत्रकारिता समाज का आईना होता है। ऐसे में समाज में ऐसे आईने को पैदा करना होगा जो अपने समाज की वास्तविक रिपोर्टिंग कर सके। एन यादव समाज से जुड़कर पत्रकारिता की जो नींव रखी थी वह कमजोर नहीं पड़नी चाहिए। उन्होंने भरोसा दिया कि पिछड़ा, दलित और मुस्लिम समाज मिलकर पत्रकारिता की दिशा बदल सकता है। इसको लेकर काम करने की जरूरत है। एन. यादव ने गांव देहात से आकर समांतवाद की इस दुनिया में जिस तरह से अपनी जगह बनाई थी, वह अपने आप में मिशाल है।

कार्यक्रम में अखिल भारतवर्षीय यादव महासभा के राष्ट्रीय महासचिव प्रमोद चौधरी ने कहा कि वह हर किसी को जोड़ने का काम करते थे। उनकी आवाज बहुत ऊंची थी। वह किसी से दबकर बात नहीं करते थे। श्रद्धांजलि सभा में हाशिए पर पिछड़ों की पत्रकारिता का असर भी दिखा। यूपी मान्यता प्राप्त पत्रकार समिति का कोई भी पदाधिकारी कार्यक्रम में नहीं आया। लखनऊ के चुनिंदा पत्रकार ही वहां पर दिखे और मंच पर आकर अपनी बात भी रखी। इसमें निष्पक्ष दिव्य संदेश से राजेंद्र गौतम और गुलिस्तान न्यूज के राजबीर सिंह यादव रहे। हिन्दी दैनिक पत्रकार सत्ता की ओर से कार्यक्रम में शामिल हुए अखिलेश कृष्ण मोहन ने भी अपने विचार रखे और एन यादव को न केवल पत्रकार, बल्कि अपने तबके का मसीहा बताया। उन्होंने कहा कि वह पत्रकारिता की दिशा दशा दोनों को समझते थे। जोड़ने में अदभुत कला में माहिर एन यादव का असमय चला जाना, युवा पत्रकारों का सबसे बड़ा नुकसान हैं।

फोटोः पत्रकार एन. यादव की पुण्यतिथि पर कार्यक्रम में संबोधित करते हुए रिटायर्ड आईएएस अधिकारी गंगादीन यादव।