Tuesday, September 7, 2021

79 बर्थ डे: किसानी से लेकर सियासत तक मुलायम का ऐसा रहा सफर

lucknow. देश के सबसे बड़े Politics घराने के मुखिया मुलायम सिंह यादव 22 नवंबर को 78 साल के हो गए। समाजवादी पार्टी की नींव रखने वाले मुलायम के परिवार के 18 सदस्य Politics में एक्टिव हैं। जन्मदिवस के मौके पर आज हम इनके Politics जीवन पर एक नज़र डालेगें। -DAINIKDUNIA.COM

बता दें एक दौर में Politics में मुलायम सिंह का सिक्का पुजता था। वो किंग से लेकर किंग मेकर तक की भूमिका अदा कर चुके हैं। आज की Politics में ज़मीनी स्तर का उनसे बड़ा समाजवादी नेता कोई नहीं है।

 

मुलायम

 

परिवार के कण-कण में Politics

76 साल पहले आज ही के दिन साल 1939 में उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के सैफई गांव में मुलायम सिंह यादव का जन्म हुआ था। उनका परिवार पहले बेशक Politics से न जु़ड़ा हो। लेकिन आज उनके परिवार के कण-कण में Politics बसती है। देश में उनके परिवार से बड़ा Politics परिवार शायद ही हो।

 

ALSO READ. समाजवादी पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष की पुण्यतिथि पर जानिए उनका जीवन

 

 उनकी उड़ान ज़मीन से शुरू हुई

भाई, भतीजा, बेटा और बहु हर कोई ब्लॉक और पंचायत स्तर से लेकर संसद तक प्रतिनिधित्व कर रहा है। आज मुलायम जहां खड़े हैं बेशक वो पायदान Politics में काफी ऊंचा है लेकिन उनकी उड़ान ज़मीन से शुरू हुई थी। जो काफी विस्तारित दिखाई देती है। नज़र डालिए उनके निजी से Politics जीवन पर एक नज़र।

 

ALSO READ. जनता को अब फिर अखिलेश यादव याद आने लगे हैं

मास्टरी से मुख्यमंत्री तक

 

22 नवंबर 1939 को मुलायम सिंह एक साधारण परिवार में जन्मे। उन्होंने अपने शैक्षणिक जीवन में BA, BT और Politics शास्त्र में MA की डिग्री हासिल की। उनकी पूरी पढ़ाई के के कॉलेज इटावा, ए के कॉलेज शिकोहाबाद और बीआर कॉलेज आगरा यूनिवर्सिटी से पूरी हुई।

शख्सियत का नाम राम मनोहर लोहिया

मालती देवी से शादी के बाद साल 1973 में मुलायम सिंह के घर उनके इकलौते बेटे अखिलेश यादव ने जन्म लिया। लेकिन तब तक वो Politics की दुनिया में अपने कदम जोरदार तरीके से जमा चुके थे। Politics में कूदने के लिए उन्हें प्रेरित करने वाली शख्सियत का नाम राम मनोहर लोहिया था।

साल दर साल Politics सफ़र

1960: मुलायम सिंह Politics में उतरे
1967: पहली बार विधानसभा चुनाव जीते, MLA बने
1974: प्रतिनिहित विधायक समिति के सदस्य बने
1975: इमरजेंसी में जेल जाने वाले विपक्षी नेताओं में शामिल
1977: उत्तर प्रदेश में पहली बार मंत्री बने, कॉ-ऑपरेटिव और पशुपालन विभाग संभाला
1980: उत्तर प्रदेश में लोकदल का अध्यक्ष पद संभाला
1985-87: उत्तर प्रदेश में जनता दल का अध्यक्ष पद संभाला
1989: पहली बार UP के मुख्यमंत्री बनकर कमान संभाली
1992: समाजवादी पार्टी की स्थापना कर, विपक्ष के नेता बने
1993-95: दूसरी बार यूपी के मुख्यमंत्री पद पर काबिज़ रहे
1996: मैनपुरी से 11वीं लोकसभा के लिए सांसद चुने गए। केंद्र सरकार में रक्षा मंत्री का पद संभाला
1998-99: 12वीं और 13वीं लोकसभा के लिए फिर सांसद चुने गए
1999-2000: पेट्रोलियम और नेचुरल गैस कमेटी के चेयरमैन का पद संभाला
2003-07: तीसरी बार यूपी का मुख्यमंत्री पद संभाला
2004: चौथी बार 14वीं लोकसभा में सांसद चुनकर गए
2007: यूपी में बसपा से करारी हार का सामना करना पड़ा
2009: 15वीं लोकसभा के लिए पांचवीं चुने
2009: स्टैंडिंग कमेटी ऑन एनर्जी के चेयरमैन बने
2014: उत्तर प्रदेश के आज़मगढ़ से सांसद बने
2014: स्टैंडिंग कमेटी ऑन लेबर के सदस्य बने
2015: जनरल पर्पस कमेटी के सदस्य बने

 

-FILE PHOTO