Wednesday, September 8, 2021

पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने राज्यपाल को सौंपा राष्ट्रीय ध्वज!

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक आज पुलिस लाईन, लखनऊ में आयोजित गणतंत्र दिवस परिसमाप्ति समारोह (बीटिंग दि रिट्रीट) में शामिल हुए।

राम नाईक

उत्कृष्ट मार्च पास्ट के लिए प्रथम पुरस्कार

परिसमाप्ति समारोह के बाद राष्ट्रीय ध्वज को उतारकर पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने राज्यपाल को सौंपा। इस अवसर पर मुख्य सचिव राजीव कुमार, राजस्व परिषद के अध्यक्ष प्रवीर कुमार, लखनऊ के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार सहित अन्य वरिष्ठ प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारीगण उपस्थित थे।

राज्यपाल ने इस अवसर पर गणतंत्र दिवस परेड में सेना द्वारा उत्कृष्ट मार्च पास्ट के लिए प्रथम पुरस्कार 8 कुमाऊं रेजीमेंट तथा द्वितीय पुरस्कार 2/11 गोरखा राइफल्स को दिया। अर्द्धसैनिक बल में उत्कृष्ट मार्च पास्ट के लिये सशस्त्र सीमा बल को प्रथम और केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल को द्वितीय पुरस्कार दिया गया।

उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम एवं मुख्य निर्वाचन

पुलिस मार्च पास्ट के लिये प्रथम पुरस्कार 10वीं, 42वीं व 36वीं बटालियन पीएसी को, द्वितीय पुरस्कार यूपी होमगार्ड तथा तृतीय पुरस्कार 9वीं, 35वीं व 37वीं पीएसी बटालियन को दिया गया। परेड में शामिल स्कूली बच्चों के मार्च पास्ट में एनसीसी बालिका को प्रथम पुरस्कार, एनसीसी बालक को द्वितीय तथा यूपी सैनिक स्कूल बालक, सेन्ट जोजफ इण्टर कालेज बालिका एवं सिटी मान्टेसरी स्कूल गोमतीनगर बालिका टुकड़ी को तृतीय पुरस्कार दिया गया।

इसी प्रकार झांकियों में प्रथम स्थान उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम एवं मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय को दिया गया। द्वितीय स्थान उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड एवं उत्तर प्रदेश उद्यान एवं खाद्य प्रसंकरण को तथा तृतीय स्थान लखनऊ विकास प्राधिकरण एवं उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग को दिया गया। समारोह में विभिन्न विद्यालयों को भी सांस्कृतिक कार्यक्रम व अन्य प्रदर्शन के लिए पुरस्कृत किया गया।

पाइप्स एवं ड्रम्स बैण्ड द्वारा तेज चाल

समारोह में 35 पीएसी एवं मिलिट्री के बैण्ड, पाइप्स एवं ड्रम्स बैण्ड द्वारा तेज चाल, धीमी चाल तथा ‘सारे जहाँ से अच्छा’, ‘माँ तुझे सलाम’, ‘वंदे मातरम’ आदि जैसे देशभक्ति के गीतों के माध्यम से मनमोहक प्रस्तुति दी गयी। कार्यक्रम में डोगरा रेजीमेन्टल सेन्टर, एएमसी सेन्टर, 16 आसाम रेजीमेन्ट, 11 गोरखा रेजीमेन्ट, 1 सिखलाई तथा 35 पीएसी ब्रास बैण्ड ने भाग लिया।