Monday, September 6, 2021

पत्रकारों को दोस्त बनाओ, काम निकालो, लेकिन अपनी बात मत बतानाः मायावती

MAYAWATIलखनऊ ।। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया और यूपी की चार बार मुख्यमंत्री रहीं मायावती यूपी विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई हैं। उन्होंने रविवार को लखनऊ पार्टी मुख्यालय पर प्रदेश के सभी पदाधिकारियों की बैठक बुलाई थी। इस दौरान पदाधिकारियों को कई निर्देश दिए गए। पूरे प्रदेश की भाईचारा कमेटी को भंग कर दिया गया है। केवल जोनल कमेटी के पदाधिकारियों को ही बरकरार रखा गया है। पुखता सूत्रों के मुताबिक, इस दौरान मायावती ने कार्यकर्ताओं को यह निर्देश भी दिए कि पत्रकारों को दोस्त बनाओं, अपना काम निकालो, लेकिन अपनी बात मत बताना।

उत्तर प्रदेश के सभी छोटे-बड़े बीएसपी पदाधिकारियों, पार्टी विधायकों के साथ अगले विधानसभा लड़ने वाले उम्मीद्वारों आदि की महत्वपूर्ण बैठक में चर्चा की गई। बैठक में पार्टी संगठन की गतिविधियों, सर्वसमाज में जनाधार को बढ़ाने व चुनावी सम्बन्धी तैयारियों की बीएसपी प्रमुख मायावती द्वारा गहन समीक्षा व विशेष दिशा-निर्देश दिए गए।

बीएसपी उत्तर प्रदेश स्टेट कार्यालय एवेन्यू में आयोजित इस बैठक में मायावती ने ख़ासकर उत्तर प्रदेश में भाजपा व सपा की मिलीभगत से चल रही साम्प्रदायिक माहौल को बिगाड़ कर उसका चुनावी लाभ उठाने की साजि़शों का भी जायज़ा लिया गया। बीएसपी प्रमुख ने इस बैठक के बाद फिर कुछ ज़ोनल कोओर्डिनेटरों से अलग से वार्ता की और उन्हें सम्बधित क्षेत्र के लिए अलग से विशेष दिशा-निर्देश भी दिये।

इस अवसर पर अपने सम्बोधन में मायावती ने कहा कि जैसे-जैसे प्रदेश में विधानसभा का आमचुनाव नज़दीक आता जा रहा है, वैसे-वैसे उनकी यह बात विभिन्न घटनाक्रमों से साबित होती जा रही है कि सपा और भाजपा दोनो ही पार्टियां, बीएसपी के खिलाफ, मिलकर काम कर रही हैं और चुनाव को प्रभावित करने के लिए ख़ासकर हिन्दू-मुस्लिम साम्प्रदायिक दंगा कराने का षडयंत्र कर रही हैं।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कैराना क्षेत्र से लोगों के पलायन को जिस प्रकार से भाजपा ने हिन्दू-मुस्लिम साम्प्रदायिकता का रंग देने का गलत प्रयास किया वह जग-ज़ाहिर है, परन्तु प्रदेश की सपा सरकार ने जिस प्रकार से कैराना के पलायन की वास्तविकता को उजागर करने में लापरवाही व कोताही बरती, वह यह साबित करता है कि भाजपा के साथ माहौल खराब करने में उसकी स्पष्ट तौर पर मिलीभगत है। परन्तु मीडिया जगत की प्रशंशा करनी होगी कि उसने पलायन की असली हक़ीक़त को लोगों के सामने तत्परता से रखा और भाजपा व सपा की साजिश को नाकाम कर दिया, वरना प्रदेश को साम्प्रदायिकता की आग में झोंकने की पूरी तैयारी थी। UPDATING… CONTINUE…

फोटोः फाइल।