Monday, September 6, 2021

जहरीली शराब से 39 की मौत, 110 से अधिक बीमार

15लखनऊ।। जहरीली शराब ने राजधानी के मलिहाबाद में 39 लोगों को मौत की नींद सुला दिया। 110 से अधिक लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है, जिन्हें गंभीर हालत में अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है। मरने वालों में मलिहाबाद, सरोजनीनगर और उन्नाव जिले के लोग शामिल हैं।

मौतों का सिलसिला रविवार रात सरोजनीनगर से शुरू हुआ, लेकिन हड़कंप तब मचा जब सोमवार सुबह मलिहाबाद सीएचसी में पीड़ितों का आना शुरू हुआ। देखते ही देखते आठ लोगों ने दम तोड़ दिया। पुलिस को ग्रामीणों ने सूचना दी। सुबह करीब साढ़े आठ बजे पहुंची पुलिस ने कई इलाकों में छानबीन शुरू की। दतली गांव में शराब बनाने वाले जगनू व गटरू सहित कई घरों पर छापे मारे। जगनू और शराब के सप्लायर पंचलाल को तो पकड़ लिया गया, लेकिन बाकी फरार हैं। शाम को नाराज ग्रामीणों ने जगनू के मकान में भी आग लगा दी।

आबकारी आयुक्त और एसडीएम समेत 21 सस्पेंड

मुख्यमंत्री के महकमे में अफसरों की लापरवाही से हुए बड़े हादसे से प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया। अफसरों ने पहले तो मामला दबाने की कोशिश की, बाद में मुख्यमंत्री की नाराजगी के चलते लापरवाह अफसरों को सस्पेंड किया। निलंबित अफसरों में एसडीएम मलिहाबाद प्रशिक्षु आईएएस संजीव कुमार, सीओ मलिहाबाद श्यामाकांत त्रिपाठी, इंस्पेक्टर मलिहाबाद अमर सिंह रघुवंशी, सहायक आबकारी आयुक्त (प्रवर्तन) रविशंकर पाठक, जिला आबकारी अधिकारी लाल बहादुर यादव, आबकारी निरीक्षक वाणी विनायक मिश्र, मलिहाबाद कोतवाली के इंचार्ज आरके वर्मा, सिपाही अरविंद, महाराजदीन, रामस्वरूप, हेड कांस्टेबल आबकारी श्याम नारायण मिश्र, आबकारी सिपाही रजनीश कुमार, संजीव अग्निहोत्री, विनोद कुमार मौर्य, सुमन देवी और सिपाही सीता शामिल हैं।

बनाने और पीने वाली महिलाएं भी शामिल

मलिहाबाद में शराब बनाने और पीने वालों में महिलाएं भी शामिल हैं। जगनू की पत्नी पुष्पा के खिलाफ केस दर्ज हुए ही हैं। उसके अलावा बीस से ज्यादा महिलाएं इस धंधे में जुड़ी हैं। शराब पीकर अस्पताल पहुंचने वालों में भी छह महिलाएं हैं।

फोटोः बीमार लोगों का इलाज करवाते परिजन।