Tuesday, September 7, 2021

यहां रोज मर रहीं 10 हजार गाएं, मोदी दिल्ली में खिला रहे हैं रोटी

modi cow

akhileshnews@gmail.com

बुंदेलखंड/लखनऊ ।। दिल्ली में नरेंद्र मोदी भले ही गाय को रोटी खिला रहे हैं और भाजपा सोशल मीडिया पर काऊ बचाओ अभियान चला रही है, लेकिन जिस प्रदेश से भाजपा के 73 सांसद हैं, उसी प्रदेश के बुंदेलखंड में रोज 10 हजार गाएं मर रही हैं। गाय के मरने की वजह है कि उन्हें भोजन-पानी नहीं मिल रहा है। यह खुलासा स्वराज अभियान के संयोजक योगेंद्र यादव की पदयात्रा के दौरान तैयार की गई रिपोर्ट से हुआ है।

सबसे चौकाने वाली बात तो यह है कि जहां पर सबसे ज्यादा गाय मर रही हैं। वहां की हर सीट पर भाजपा के ही सांसद हैं। ललितपुर-झांसी गंगा बचाव अभियान को लेकर मुहिम चलाने वाली उमाभारती ही सांसद हैं। उमा इस समय केंद्र सरकार में जल संसाधन, नदी विकास और गंगा सफाई मंत्री हैं।

गौरतलब है कि बुंदेलखंड बीफ व गाय संबंधित मामले आजकल सुर्खियों में हैं पर बुंदेलखंड में पशुओं की दुर्दशा को लेकर चुप्पी बनी हुई है। एनजीओ स्वराज अभियान से सामाजिक कार्यकर्ता योगेंद्र यादव के अनुसार केवल मई महीने में सूखा प्रभावित क्षेत्र बुंदेलखंड के लगभग तीन लाख पशुओं की मौत हो गयी है पर सरकार चुप है। योगेंद्र यादव ने आरोप लगाया, गाय के लिए भाजपा का प्यार केवल अखबारों व टीवी तक ही सीमित है। यहां तक कि पार्टी के नेशनल लीडरशिप डिबेट में गाय को राष्ट्र माता और बीफ की बिक्री के मामले को उठाया गया, जबकि बुंदेलखंड में मात्र एक माह मई में केवल 3 लाख पशुओं की मौत हो गयी।

DE04_PAGE_3_GIL_DE_1447666f
सोशल मीडिया पर गाय के साथ जल संसाधन मंत्री उमा भारती।

योगेंद्र यादव ने कहा कि सूखा प्रभावित बुंदेलखंड में प्रतिदिन 10,000 गायों की मौत प्रतिदिन हो रही है। मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश के 13 जिलों में पशुओं के शव बिखड़े पड़े हैं। उन्होंने आगे कहा कि पूरे क्षेत्र में यह असहनीय तनाव व्याप्त है और इससे बीमारियां फैलने की पूरी संभावना है।

उत्तरप्रदेश के भाजपा प्रवक्ता चंद्र मोहन ने इस आपदा के लिए राज्य सरकार पर आरोप लगाया। उन्होंने कहा, सपा सरकार बुंदेलखंड की बर्बादी के लिए जिम्मेवार है। केंद्र द्वारा वाटर ट्रेन के ऑफर को ठुकराने वाली राज्य सरकार के अड़ियल रवैये को आप समझ सकते हैं। उनके जिला स्तर के सभी अधिकारियों व कमिश्नरों द्वारा सूखे के खराब हालात का विवरण दिया जा रहा है। केंद्रीय स्तर पर बुंदेलखंड के सभी विधायकों ने सूखे के इस समय में बेहतरी के लिए पैसों का योगदान का प्रस्ताव रखा है।

एनजीओ के आंकड़ों के अनुसार, मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र में 11,065 गांव आते हैं, सभी गांवों में मई माह के दौरान औसतन 10 से 100 तक पशुओं की मौत हुई। यादव ने कहा कि हर जगह चारा में कमी के रिपोर्ट्स सुनने में आया है। चारा बैंक स्कीम केवल पेपर पर है। किसी को इस स्कीम का पता नहीं या फिर उन लोगों ने इस रकम का फायदा वे उठाते हैं जिनके पास पशु है ही नहीं। योगेंद्र यादव ने भाजपा पर आरोप लगाया कि वे राजनीति में अपना मतलब साधने के लिए गाय के प्रति अपने प्यार को अखबारों व टीवी स्टूडियोज में दिखाते हैं।

अखिलेश कृष्ण मोहन
अखिलेश कृष्ण मोहन

13 मई को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र व राज्य सरकारों को सूखे की जिम्मेवारी से बचने के लिए फटकारा। जस्टिस एमबी लोकुर और एनवी रामना के बेंच ने कहा, फंड की कमी का बहाना बना आप छिप नहीं सकते। इसने राज्य सरकारों को आपदाओं के प्रति ऑस्ट्रिच जैसा व्यवहार अपनाने के लिए भी फटकारा। पीड़ितों के राहत के लिए शीर्ष अदालत ने मनरेगा और मिड-डे मिल स्कीम के लिए भी निर्देश पारित किए। लगातार दो वर्षों तक औसत से कम होने वाली मानसून की बारिश ने देश को सूखे के चपेट में ले लिया है। बुंदेलखंड भी इसी कारण से सूखे को झेल रहा है। अप्रैल में संसद को सरकार ने बताया कि 11 राज्यों के 266 जिलों को सूखाग्रस्त घोषित किया गया है। 10 राज्यों के 330 मिलियन लोग प्रभावित हैं। स्थिति में सुधार की उम्मीद की जा रही है हालांकि भारत के मौसम विभाग ने इस वर्ष अच्छे मानसून की भविष्यवाणी की है।

फोटोः फाइल।