Sunday, August 29, 2021

संघ के दो बच्चे मर गए, पत्रकार साहब, तुम क्या चीज हो

dev-ji

अखिलेश कृष्ण मोहन
अखिलेश कृष्ण मोहन

लखनऊ ।। राजधानी दिल्ली के एक वरिष्ठ पत्रकार हैं देव नाथ साहब। वह हर जरूरतमंद और सही आदमी की मदद जरूर करने की कोशिश करते हैं और अधिकतर भला हो भी जाता है, लेकिन शायद इस बार वह फेल हो गए। उन्होंने सोशल मीडिया पर अपने दिल की बात शेयर की है। जो काफी सोचनीय है। उन्होंने ब्लड कैंसर से पीड़ित एक बच्चे को जीवन देने की लड़ाई लड़ी, हालांकि वह फेल हो गए। गंभीर रूप से बीमार होने और उनके इलाज के लिए एम्स में भर्ती किए जाने की सिफारिश की। हालात यह थी कि बच्चा मर जाएगा, लेकिन जो कुछ उन्हें सुनने और देखने को मिला, वह अपने आप में हैरान कर देने वाला था।

देव साहब का कहना है कि ब्लड कैंसर से पीड़ित दो साल के बच्चे के इलाज के लिए एम्स में दर-दर भटक रहे परिवार की पीड़ा असहनीय थी। वह केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा के ओएसडी सर्वेश टंडन से मिले। बच्चे को एम्स में एडमिशन के लिए किसी के रेफरेंस का हवाला देते हुए कहा कि सर बच्चे की हालत बहुत क्रिटिकल (नाजुक) है। डॉक्टर भी कह रहे हैं कि कुछ भी हो सकता है। इसलिए हमारी मदद कीजिए। मैं पत्रकार हूं, मैं बच्चे की मदद करना चाह रहा हूं।

अब सुनिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के ओएसडी सर्वेश ने क्या कहा। सर्वेश ने कहा कि मैं आपकी कोई मदद नहीं कर सकता। पत्रकार देव ने जब यह कहा कि बच्चा मर जाएगा सर, मदद कीजिए, तो सर्वेश टंडन का कहना था कि यहां हर दिन कोई न कोई बच्चा मरता है! यदि यह भी मर जाएगा तो क्या हो जाएगा? मैंने कहा सर मैं हैरान हूं, आप ऐसा कैसे कह सकते हैं ? उस पर उन्होंने कहा कि भाई जब बेड खली नहीं है, तो मैं क्या करूं। आगे उन्होंने कहा कि संघ से जुड़े दो लोगों के बच्चे मर गए तो आप क्या चीज हैं।

देव जी आगे कहते हैं कि मैं हैरान हूं और परेशान भी कि एक मासूम बच्चे के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के ओएसडी ऐसी हृदयहीन और असंवेदनशील बात कैसे कर सकते हैं ? बाद में पता चला कि जब तक उनके पास किसी मंत्री का लेटर नहीं जाता वे ऐसे ही बोलते रहते हैं।

फोटोः फाइल।