Sunday, September 5, 2021

टिकट के लिए सपा नेताओं को यह काम करना पड़ेगा

28-03 aलखनऊ।। अरविंद यादव।। समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव शनिवार को कहा कि नेताओं को टिकट पाने के लिए लोहिया को पढ़ना पड़ेगा। जो लोहिया को पढ़ेगा उसी को टिकट मिलेगा। आने वाले समय में दल बदलुओं को सपा में घुसना मुश्किल हो सकता है। नेता अखिलेश यादव और मुलायम सिंह की तारीफ न करें। वह लोहिया के सिद्धांतों को पढ़ें। मुलायम सिंह यादव ने ये बातें पार्टी मुख्यालय पर वरिष्ठ समाजवादी नेता स्वर्गीय बदरी विशाल पित्ती की 87वीं जयंती पर कही है।

ऐसा पहली बार हुआ कि बदरी विशाल पित्ती की जयंती धूमधाम से मनाई गई। पार्टी कार्यालय पर समाजवादी पार्टी के सहयोगी संगठनों के कार्यकर्ताओं की भीड़ जुटी रही। यही नहीं यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री से लेकर विधायक और सांसद भी यहां मौजूद रहे। इन सभी नेताओं को अगाह करते हुए मुलायम ने कहा कि यदि पित्ती ने लोहिया के भाषण और उनसे जुड़ी घटनाओं का संग्रह नहीं किया होता तो आज की पीढ़ी लोहिया के योगदान को कभी नहीं जान पाती।

मुलायम ने आगे कहा कि टिकट पाने वालों की पहली शर्त होनी चाहिए कि वह लोहिया को पढ़ें। समाजवादी आंदोलन बड़े संघर्ष और कुर्बानियों से आगे बढ़ा है। इसके इतिहास और अन्य खूबियों के बारे में लोगों को जानने चाहिए। इस दौरान मुलायम ने कार्यकर्ताओं को नसीहत भी दी। उन्होंने कहा कि पार्टी को बनाने में बहुत कुर्बानियां दी गई हैं। पांच लोगों ने इसके लिए कुर्बानियां दी हैं और बड़े संघर्ष के बाद पार्टी सत्ता में आई है। चुनाव जब होते थे तो लोहिया जी आखिरी समय तक प्रचार करते थे।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने संबोधन में कहा कि नेताजी ने समाजवाद का अर्थ समता और संपन्नता बताया है। समाजवादी हमेशा गैर बराबरी के खिलाफ लड़ते रहे हैं, लेकिन सरकार आने के बाद कुछ का झुकाव दूसरी और ज्यादा हो गया है। उत्तर प्रदेश में नौजवान समाजवादी आंदोलन को आगे लाए हैं। अब यहां समाजवादी सरकार भी बन गई है। ये नौजवान यदि समाजवादी साहित्य पढ़कर सिद्धांत जानेंगे, तो स्वार्थ की तरफ कम भागेंगे। यदि पिछली बसपा सरकार और केंद्र सरकार की तुलना करें तो उत्तर प्रदेश की समाजवादी सरकार की उपलब्धियां सबसे बेहतर नजर आएगी। बिना किसी भेदभाव के समाज के हर वर्ग के कल्याण की योजनाएं चल रही हैं। सब तरफ परिवर्तन दिख रहा है।

फोटोः लखनऊ में समाजवादी पार्टी के मुख्यालय पर मुलायम सिंह यादव वरिष्ठ समाजवादी नेता स्वर्गीय बदरी विशाल पित्ती की 87वीं जयंती पर बोलते हुए।