Sunday, September 5, 2021

कानपुर में चल रहा था सैक्स रैकेट, इस शर्त पर विदेश भेजी जाती थी लड़कियां !

kanpur. सैक्स रैकेट को लेकर चौकांने वाला खुलासा सामने आया है। यह मामला फीलखाना स्थित सूर्या टॉवर में पकड़े गए सैक्स रैकेट में बुधवार से लेकर गुरुवार के बीच कई और बड़े खुलासे हो गए हैं। सेक्स रैकेट चलाने वाली संचालिका दिल्ली, मुंबई और नेपाल तक लड़कियां सप्लाई करती थी। दिल्ली के कुछ दलाल भी उसके सम्पर्क में थे जो आवश्यकतानुसार मुंबई और नेपाल में भी लड़कियां भिजवा देते थे।

 

सैक्स रैकेट

 

इसके बाद पुलिस ने संचालिका के खिलाफ फर्जी दस्तावेज तैयार कराने और उनका प्रयोग करने की धाराओं में एक और FIR दर्ज कराई है। शहर के कुछ कथित मीडियाकर्मी भी पुलिस के रडार पर हैं। शहर के कुछ और बड़े लोगों के सम्पर्क में संचालिका थी।

 

ऐसे चल रहा था सेक्स रैकेट

पुलिस को यह भी पता चला है कि देश के बाहर भी संचालिका का दूसरी महिलाओं के साथ धंधा चल रहा था। उसके पास से पुलिस ने प्रेस कार्ड, आधार कार्ड, पैन कार्ड समेत अन्य दस्तावेज बरामद किए हैं। आधार और पैन को अलग-अलग नामों से बनवाया गया था।

ऐसे में अधिकारियों के निर्देशों के बाद संचालिका के खिलाफ फर्जी सरकारी दस्तावेज बनाना और उसका प्रयोग करने के अलावा धोखाधड़ी की धारा में एक और रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। इसके अलावा पीटा के तहत आरोपियों के खिलाफ FIR दर्ज कर गुरुवार को उन्हें जेल भेज दिया गया। देह व्यापार की धाराओं में दर्ज FIR में सीओ सदर समीक्षा पाण्डेय वादी बनी हैं।

 

व्हाट्सएप ग्रुप और वेबसाइट पर भी गंदा धंधा

संचालिका व्हाट्सएप ग्रुप और लोकांटो नाम की वेबसाइट से भी देह व्यापार चला रही थी। लोकांटो वेबसाइट पर संचालिका ने अपने नम्बर का प्रचार करते हुए लड़कियों की सप्लाई का एडवरटाइजमेंट डाल रखा था। वहीं व्हाट्सएप ग्रुप पर कई दलालों के अलावा कालगर्ल को भी जोड़ा हुआ था। वहां से फोटो और लड़कियों की डिटेल क्लाइंट को भेजी जाती थी।

 

रशियन लड़कियों का बड़ा नेटवर्क

पुलिस विवेचना में यह भी सामने आया है कि संचालिका रशियन लड़कियों की सप्लाई करने वाले एक बड़े नेटवर्क का भी हिस्सा थी। जहां विदेशी लड़कियों की डिमांड होती थी वहां पर अधिक्तर रशियन बालाओं को भेजा जाता था। इतना ही नहीं संचालिका के मोबाइल फोन पर पुलिस को कुछ अपराधियों के भी नम्बर मिले हैं। उनकी भी निगरानी की जा रही है।

 

कथित मीडियाकर्मियों पर भी पुलिस की नजर

संचालिका के सम्पर्क में कुछ कथित मीडिया कर्मियों की भूमिका को लेकर भी पुलिस जांच कर रही है। संचालिका इनके लगातार सम्पर्क में थी और कुछ तो उस तक क्लाइंट पहुंचाने का भी काम कर रहे थे। इसके अलावा दो पुलिसकमिर्यों के बारे में भी पुलिस को सूचना मिली है। इनमें से एक ट्रैफिक विभाग में तैनात है। अधिकारी इन दोनों से भी पूछताछ करेंगे।

 

चार्ली नाम के दलाल की तलाश में पुलिस

आईजी रेंज आलोक सिंह, एसएसपी अखिलेश कुमार मीणा ने क्राइम ब्रांच प्रभारी ऋषिकांत शुक्ला, एसआई विनोद मिश्रा समेत उनकी टीम को लगाया था। टीम को चार्ली नाम के एक बड़े दलाल के बारे में पता चला है। उसकी तेजी से तलाश की जा रही है। चार्ली के बारे में बताया गया है कि वह संचालिका को सबसे ज्यादा क्लाइंट दिलवाने का काम कर रहा था।

 

फोटो-फाइल