Sunday, September 5, 2021

VIDEO: वकील की हत्या के विरोध में तांडव, अब SSP को हटाने पर अड़े

dainikdunia.jpg-VAKIL-IN-LUलखनऊ।। (उमेश मिश्रा)।।  राजधानी लखनऊ में वकीलों ने जमकर तांडव मचाया। कायदे-कानून की कोर्ट में पैरवी करने का दावा करने वाले वकीलों के हाथों में डंडे और जुबान पर गुरूवार को केवल गालियां थीं। रोड जाम कर पूरे लखनऊ शहर में वकीलों ने आवागमन ठप कर दिया।

निखिलेंद्र की हत्या के विरोध में वकीलों ने भैसाकुंड में दाह संस्कार के दौरान चिता की आग ठंडी भी नहीं हुई थी कि एलान कर दिया कि एसएसपी यशस्वी यादव के हटाए जाने तक अनशन करेंगे। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष सीएल दीक्षित ने चेतावनी दी है कि किसी भी कीमत पर एसएसपी को हटाया जाना चाहिए।

गौरतलब है कि बुधवार की रात लखनऊ के पीजीआई इलाके में वकील निखिलेंद्र की हत्या कर दी गई थी। हत्या के लिए बम का इस्तेमाल किया गया था, हालांकि अभी जांच एजेंसी इसकी पड़ताल कर रही है। हत्या के विरोध में कानून के पैरोकार वकीलों ने राजधानी लखनऊ को जंगल राज बना दिया।

एसएसपी और डीएम वकीलों के इस तांडव को लेकर घर में दुबक गए। इस दौरान राजधानी की सड़कों पर नंगा नाच चलता रहा। हजरतगंज चौराहे से लेकर परिवर्तन चौक तक वकील रोड जामकर बवाल करते रहे। वकील एसएसपी यशस्वी यादव को हटाने की भी मांग कर रहे हैं। वकील जज और अधिकारियों की गाड़ियों को दौड़ा लिया। राजधानी में वकीलों के इस रवैए को देखते हुए आम आदमी हैरान परेशान दिखा। वकील के इस आतंक की वजह से स्कूल के बच्चे घंटों स्कूलों में ही पड़े रहे। कई राहगीरों के साथ वकीलों ने डीएम और एसएसपी के सामने ही बदसलूकी भी की।

यहां क्लिक कर देखिए…पूरा माजरा

कार्रवाई के रूप में दो लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। नामजद आरोपी राकेश रावत और उसका साला बताया जा रहा है। फरार लोगों की गिरफ्तारी के प्रयास में पुलिस लगी है।

यहां क्लिक कर देखिए देर रात एसएसपी का बयान

कब हुई निखिलेंद्र की हत्या

बताया जा राह है कि पीजीआई थानाक्षेत्र का मामला है। बुधवार को पुरानी रंजिश के चलते वकील निखिलेंद्र पर घर जाते समय बम से जानलेवा हमला कर दिया गया था। बम लगते ही वकील लहूलुहान होकर जमीन पर गिर गए थे। सूचना मिलते ही कैंट सीओ और पीजीआई थानाध्यक्ष पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे थे। इसके बाद घायल को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया था।

फोटोः राजधानी लखनऊ में बंद के दौरान राहगीरों की गाड़ियों को रोकवाते वकील।