Saturday, September 4, 2021

लखनऊ: सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल कॉलेज पर ठोका 25 लाख का जुर्माना!

lucknow. Supreme court ने लखनऊ के GCRG मेडिकल कॉलेज में एडमिशन पाने वाले सभी 150 छात्रों के दाखिले को रद्द कर दिया है। साथ ही कोर्ट ने कॉलेज को हर छात्र को 10-10 लाख रुपए का मुआवजा देने का आदेश दिया है। Supreme court ने कॉलेज पर 25 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है। DAINIKDUNIA.COM

हाल ही में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कॉलेज को राहत दी थी, लेकिन Supreme court ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले पर रोक लगाते हुए कॉलेज में छात्रों के दाखिले को रद्द कर दिया है। इलाहाबाद हाई कोर्ट को फटकार GCRG कॉलेज को वर्ष 2-17-18 के सत्र के लिए ब्लैकलिस्ट कर दिया गया था, लेकिन इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कॉलेज को एडमिशन लेने की अनुमति दे दी थी, जिसपर Supreme court ने रोक लगा दी है।

 

मेडिकल कॉलेज

 

छात्रों को कॉलेज में दाखिला

Supreme court के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर व जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच ने इलाहाबाद हाई कोर्ट को फटकार लगाई है। बेंच ने अपने फैसले में कहा कि इस मामले में न्यायिक जिम्मेदारी को दरकिनार किया गया, डिविजन बेंच के एक जज ने आदेश में बदलाव करते हुए हाथ से लिखकर छात्रों को कॉलेज में दाखिला लेने की अनुमति दी।

 

ALSO READ. अखिलेश ने क्यों थूंका पिता मुलायम का खिलाया हुआ केक, देखें पूरा वीडियो

कॉलेज पर 25 लाख रुपए का जुर्माना

Supreme court ने हाई कोर्ट के फैसले को गलत बताया Supreme court ने सभी छात्रों के प्रवेश पर रोक लगा दी है और कॉलेज को निर्देश दिया है कि वह हर छात्र को उसकी फीस लौटाने के साथ 10-10 लाख रुपए का मुआवजा दे। मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा ने कॉलेज पर 25 लाख रुपए का जुर्माना ठोकते हुए कहा कि यह पूरी तरह से अनुचित है कि छात्रों के दाखिले की अनुमति दी गई।

 

कॉलेज ने अपनी याचिका को वापस

गौरतलब है कि लखनऊ का GCRG मेडिकल कॉलेज उन 32 कॉलेज की लिस्ट में था जिनपर केंद्र ने अगले दो सालों तक दाखिले पर पाबंदी लगा दी थी। केंद्र के इस फैसले को कॉलेज ने Supreme court में चुनौती दी थी, लेकिन 28 अगस्त को कॉलेज ने अपनी याचिका को वापस ले लिया था और अगले दिन इलाहाबाद हाई कोर्ट में इस मामले की अपील की थी।

 

-FILE PHOTO