Friday, September 3, 2021

ABVP ने की शिक्षा संस्थानों को ONLINE करने की मांग

RAJDHANIलखनऊ।। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने उच्च शिक्षा विभाग की कार्यप्रणाली को ऑनलाइन करने की मांग की है। परिषद का कहना है कि एकेडमिक कैलेंडर घोषित करने के साथ ही संस्थानों की सभी गतिविधियां वेबसाइट पर डालकर सार्वजनिक की जानी चाहिए। इससे पारदर्शिता आएगी और गड़बड़ियों पर भी लगाम लगेगी। यह भी मांग की गई है कि सभी संस्थानों में उच्चतम अंक पाने वाले छात्र-छात्राओं की उत्तर पुस्तिकाएं इंटरनेट पर डालकर सार्वजनिक की जाएं। इससे अन्य छात्र भी इसका फायदा उठा सकेंगे। 

परिषद ने राज्यपाल को कुछ सुझाव भी दिए हैं, जिसमें लिंगदोह कमेटी के सुझावों के अनुरूप ही चुनाव करवाए जाने की मांग की गई है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने यूपी के डिग्री और यूनिवर्सिटी में चुनाव करवाए जाने की भी मांग करते हुए कहा कि यह चुनाव शैक्षणिक सत्र के शुरूआत में ही होना चाहिए। इससे सत्र भी प्रभावित नहीं होगा और छात्र नेताओं की मांग भी पूरी होगी। परिषद का कहना है कि यूनिवर्सिटी और डिग्री कॉलेजों में भारीअनियमितता है। इससे छात्रों की शिक्षा बाधित हो रही है। यूपी में यही हाल रहा तो यहां उच्च शिक्षा लेना मुश्किल हो जाएगा। 

राजधानी के एक प्रतिष्ठान में संगठन के यूपी-उत्तराखंड के क्षेत्रिय संगठन मंत्री धर्मपाल सिंह ने राज्यपाल से मामले को गंभीरता से लेने का अनुरोध किया है। उनका कहना है कि लखनऊ यूनिवर्सिटी से लेकर दर्जनों संस्थानों में भारी गड़बड़ियां हो रही हैं। इस संस्थानों में प्रवेश प्रक्रिया देरी से हो रही है। प्रयोगशालाओं की व्यवस्था ठीक नहीं है। इसे यदि नजर अंदाज किया गया तो छात्र शिक्षा के लिए प्रदेश छोड़ने को मजबूर होंगे। 

इन उच्च शिक्षा संस्थानों में ये हैं गड़बड़ियां
लखनऊ यूनिवर्सिटी 
  • प्रवेश प्रक्रिया देरी से शुरू होने की वजह से शैक्षणिक कार्य पूरी तरह बाधित
  • यूनिवर्सिटी में प्रयोगशालाओं की व्यवस्था ठीक नहीं है। इससे छात्रों की पढ़ाई बाधित हो रही है।
  •  लखनऊ यूनिवर्सिटी भ्रष्टाचार और शैक्षिक अनियमितता की शिकार है। RAJDHANI2
यूपी टेक्निकल यूनिवर्सिटी (यूपीटीयू)
  • यूपीटीयू से संबद्ध कॉलेजों में छात्रों से फीस के नाम पर अवैध वसूली की जा रही है।
  • यूपी के 100 से अधिक इंजीनियरिंग कॉलेजों में छात्रवृत्ति घोटाले की बात सामने आई है। इसमें 42 कॉलेज केवल लखनऊ के ही हैं। इसकी जांच की जाएं।
  • कॉलेज इंटरनल असेसमेंट के नंबरों के लिए छात्रों से खुलेआम वसूली करते हैं।
कानपुर यूनिवर्सिटी
  • इस यूनिवर्सिटी में पीएचडी की प्रवेश परीक्षा पिछले पांच सालों से नहीं हो रही है।
  • बीपीएड और बीएड के सत्र अनियमित हैं। इसकी वजह से परीक्षा और परीक्षा परिणाम दोनों में देरी हो रही है।
  • यूनिवर्सिटी में पुस्तकालय तकनीकी रूप से उन्नत नहीं है।

नोटः इसी तरह झांसी, आगरा रुहेलखंड और गोरखपुर यूनिवर्सिटी में भी ग्रेडिंग से लेकर कई शिकायतें हैं। इसे एबीवीपी ने दूर करने की मांग की है। 

ये हैं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की प्रमुख मांगें
  •  छात्र संघ का चुनाव लिंगदोह कमेटी के सुझाओं के अनुरूप किया जाए
  • चुनाव हर साल समय पर होने चाहिए।
  • शैक्षणिक पंचांग जारी किया जाए।
  • दीक्षांत समारोह में भारतीय परिधान (धोती-कुर्ता) लागू हो।
  • स्ववित्त पोषित और निजी संस्थानों में प्रवेश की प्रक्रिया को लेकर शुल्क नियामक आयोग बनाया जाए।

फोटोः लखनऊ के रॉयल कैफे रेस्टोरेंट में अखिल विद्यार्थी परिषद के पदाधिकारी प्रेसवार्ता करते हुए।