Sunday, September 5, 2021

जाट आंदोलन को मायावती का खुला समर्थन, तत्काल मिले आरक्षण

mayawati4यूपी में छिड़ सकती है आरक्षण और पदोन्नति में आरक्षण की जंग

अखिलेश यादव सरकार की मायावती ने बढ़ाई मुश्किलें, सपा मौन

लखनऊ (अखिलेश कृष्ण मोहन) ।। यूपी की चार बार मुख्यमंत्री रहीं बसपा प्रमुख मायावती ने जाट आंदोलन का खुलकर समर्थन किया है। उन्होंने कहा है कि बिना किसी देरी के तत्काल आरक्षण दिया जाए। इससे भाजपा और कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ गई हैं। मायावती ने साफ कहा है कि हरियाणा में जाट समुदाय को ओबीसी का आरक्षण दिया जाना चाहिए, बसपा इसका पूरा समर्थन करती है। भाजपा और कांग्रेस ने केवल आश्वासन दिया है, काम कुछ भी नहीं किया।

आज तक इस तरह से जाट आरक्षण की किसी भी सियासी दल ने खुलकर सिफारिश नहीं की थी। मायावती के बयान से सभी सियासी दलों में हड़कंप है। इसका असर यूपी में भी पड़ सकता है। यूपी में भी यदि मायावती ने आरक्षण को स्टैंड बना लिया तो दलित और पिछड़ों का बड़ा समर्थन उन्हें मिल सकता है।

मायावती ने बयान में कहा कि चाहे कांग्रेस पार्टी सत्ता में रही हो या भाजपा दोनों ही पार्टियों व उनकी सरकारों ने इस मामले में जाट समुदाय के साथ इन्साफ नहीं किया है। हरियाणा में जब कांग्रेस की सरकार थी, तब उसने जाट समुदाय को इन्साफ नहीं दिया, परन्तु अब जबकि हरियाणा राज्य में भाजपा की पूर्ण बहुमत वाली सरकार है, वहां की सरकार भी वही कर रही है जो पहले कांग्रेस पार्टी की सरकार जाट समुदाय के साथ गलत करती रही थी। यही वजह है इस समुदाय को आंदोलन छेड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा है।

मायावती ने जाट समुदाय के आन्दोलन को कुचलने के लिए हरियाणा सरकार के पुलिस बल के इस्तेमाल व पुलिस फायरिंग की निन्दा की है। उन्होंने कहा है कि इसी कारण जाट समुदाय के लोगों में हरियाणा राज्य सरकार के प्रति काफी ज्यादा आक्रोश है और वे अब ज़्यादा समय तक आश्वासन के सहारे नहीं जीना चाहते है, बल्कि अपनी इस मांग को जमीनी स्तर पर अमलीजामा पहना हुआ देखना चाहते हैं।