Monday, September 6, 2021

मैदान में उतरने का मायावती ने किया एलान, 21 से पूरे प्रदेश में महारैली

830e9dc0-9ccd-459d-b565-694e006858aa

लखनऊ ।। मायावती ने आज हो रही प्रेस कांफ्रेंस में निम्नलिखित बातें कही हैं...

LIVE: नसीमुद्दीन के बचाव में उतरीं मायावती, जानिए FIR को लेकर क्या कहा

  • मायावती सपा-भाजपा के संबंधों को पर्दाफाश करने के लिए आगरा से शुरू होगी बड़ी रैली।
  • 21 अगस्त से मायावती की सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय महारैली पूरे प्रदेश में होगी
  • मायावती ने फूंका यूपी में चुनावी बिगुल, 21 से पूरे प्रदेश में होगी महारैली, मायवती खुद करेंगी संबोधित
  • मायावती के मैदान में उतरने से बढ़ी सियासी सरगर्मी, आंदोलन के मूड़ में बसपा।

ऊना दलित कांड में खासकर भाजपा और आरएसएस से जुड़े कुछ असामाजिक तत्वों ने काम किया। इन लोगों ने पुलिस के सहयोग के नंगाकर दलितों को पीटा है। यह शर्मनाक है, इसकी भाजपा और कांग्रेस के नेताओं ने दबाने की कोशिश की है।

– ऊना कांड का मायावती ने संसद और संसद के बाहर पुरजोर विरोध किया है।

– इस घटना के विरोध में मोदी ने एक शब्द नहीं बोला है।

– बसपा प्रमुख पर FIR संसदीय अवमानना हैः मायावती

– दयाशंकर की बेटी और मां को लेकर लगाए गए भाषण केवल मामले को लेकर उनसे सहमति या असहमति को जानना था।

– भाजपा ने अपने ही नेता से अमर्यादित भाषण दिलवाया है।

  • सपा सरकार में बसपा प्रमुख के खिलाफ अपशब्दों को लेकर भी न्याय नहीं मिल रहा है, तो आम आदमी का क्या हाल होगा। इसे इस कांड से समझा जा सकता है। 
  • दयाशंकर को 36 घंटे बीत जाने के बात भी सपा सरकार गिरफ्तार नहीं करवा पाई। 
  • यूपी में बसपा सरकार आई तो दयाशंकर पर होगी कठोर कार्रवाईः मायावती
  • जानबूझकर भाजपा ने देश की बेटी के साथ साथ दलित की बेटी के खिलाफ गलत बयानबाजी करवाया है।
  • दलितों को उलझाकर रखना चाहती है भाजपा।
  • संसद में उबाल के बाद भी यूपी सरकार को कार्रवाई से भाजपा ने रोक दिया है। 
  • सपा सरकार ने अपना संवैधानिक दायित्व नहीं निभाया। 
  • सपा सरकार के बचाने का परिणाम है कि दोषी नहीं पकड़ा जा सका है।
  • बसपा प्रमुख पर केस सपा और भाजपा की मिली भगत का सबूत है।
  • सपा सरकार को मामले को खुद ही संज्ञान लेकर कार्रवाई करनी चाहिए थी।
  • बसपा सरकार ने वरूण गांधी के हाथ काट दिए जाने के बयान को लेकर सख्त कारवाई की थी। इससे सपा सरकार को सबक लेना चाहिए था।
  • सांप्रदायिक ध्रुवीकरण कर लाभ लेने की कोशिश में सपा और भाजपा लगे हैं। 
  • सपा और भाजपी की अंदरूनी मिलीभगत को अब जनता  भी जान गई है।
  • बसपा के लोगों पर अबशब्द कहने का जो आरोप है वह राजनीति से प्रेरित है।
  • बसपा एक राजनीतिक पार्टी के साथ साथ सामाजिक मूवमेंट भी है।
  • बसपा पर कोई भी आरोप आसमान पर थूकने जैसा ही साबित होता हैः मायवती
  • गुजरात में मोदी ने अपनी जाति को पिछड़ी जाति में लाकर अपनी जातिवादी सोच का परिचय दिया है।
  • केंद्र में दो साल सरकार चलाने के बाद मोदी को गोरखपुर की याद आ रही है। 
  • चुनाव के कुछ महीने पहले ही मोदी को गोरखपुर में खाद का कारखाना और एम्स बनाने की याद आ रही है।

– दलित वर्गों की आबादी करीब 25 फीसदी है, उनके वोटों में सेंध लगाने के लिए घिनौना खेल किया जा रहा है।

– बाबा साहेब की 125वीं जयंती के मौके पर बाबा साहेब के संग्रहालय में परिवर्तन कर बसपा के अनुवाइयों को लुभाने की कोशिश की है। साथ ही कई हवाई घोषणाएं की है।

– दलितों के घरों में जाकर भोजन करना भी भाजपा के नेताओं में शुरू कर दिया है, लेकिन दलितों ने इन्हें अबतक निराश ही किया है।

– रोहित बेमुला कांड ने भाजपा को और केंद्र सरकार को हिलाकर रख दिया है।