Sunday, September 5, 2021

मोदी के मंत्री का दावा: न दलित, न एसटी, इस जाति के थे हनुमान जी !

New Delhi. भगवान हनुमान की जाति को लेकर लगातार आ रहे बयानों के बीच अब मोदी सरकार में मंत्री सत्‍यपाल सिंह भी कूद पड़े हैं। उन्‍होंने कहा है कि हनुमान जी आर्य थे। इसके पीछे उनका तर्क है कि उस समय आर्य जाति थी और हनुमान जी उसी आर्य जाति के महापुरुष थे।

सत्‍यपाल सिंह

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भगवान राम और हनुमान जी के युग में इस देश में कोई जाति व्‍यवस्‍था नहीं थी। कोई दलित, वंचित, शोषित नहीं था। वाल्‍मीकी रामायण और रामचरितमानस को आप अगर पढ़ेंगे तो आपको मालूम चलेगा कि उस समय कोई जाति व्‍यवस्‍था नहीं थी।

उन्‍होंने आगे कहा कि हनुमान जी आर्य थे। इस बात को मैंने स्‍पष्‍ट किया है। उस समय आर्य जाति थी और हनुमान जी आर्य जाति के महापुरुष थे।

आपको बता दें कि हाल ही में राजस्थान के अलवर के मालाखेड़ा में सीएम योगी ने प्रचार के दौरान हनुमान को दलित बताया था। मालाखेड़ा में एक सभा को संबोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने बजरंगबली को दलित, वनवासी, गिरवासी और वंचित करार दिया।

सीएम योगी ने कहा था कि बजरंगबली एक ऐसे लोक देवता हैं, जो स्वयं वनवासी हैं, गिरवासी हैं, दलित हैं और वंचित हैं। सीएम योगी के इस बयान के बाद ब्राह्मण समाज खासा नाराज है। राजस्थान ब्राह्मण सभा ने सीएम योगी पर जाति में बांटने का आरोप लगाते हुए उन्हें कानूनी नोटिस भेजा है।