Wednesday, September 1, 2021

12 दिन के बच्चे को मां दूध पिला रही थी, बंदरों ने छीना और पटक कर मार डाला !

आगरा. उत्तर प्रदेश के आगरा में कस्बा रुनकता में बंदरों ने 12 दिन के अबोध बच्चे पर हमला बोल दिया। एक दर्जन से अधिक खूंखार बंदरों ने झपट्टा मारकर बच्चे को मां की गोद से छीन लिया। घर से काफी दूरी तक घसीट कर ले गए। जमीन पर पटक पटक कर उसे लहूलुहान कर दिया।

बंदरों

ग्रामीणों ने डंडों से पीटकर किसी तरह बंदरों को भगाया और बच्चे को उनके कब्जे से छुड़ाया। लहूलुहान हालत में परिजन बच्चे को हॉस्पिटल ले गए, जहां अबोध बच्चे ने दम तोड़ दिया।

दिल दहला देने वाली ये घटना सोमवार रात करीब आठ बजे की है। कस्बा रुनकता निवासी योगेश किसान है। 12 दिन पहले उसके घर में बेटे का जन्म हुआ। सोमवार रात को योगेश की पत्नी नेहा कमरे में अबोध बेटे को दूध पिला रही थी। योगेश ने बताया कि इसी दौरान एक दर्जन से अधिक बंदर कमरे के अंदर पहुंच गए।

झपट्टा मारकर बेटे को मां की गोद से छीन लिया। बच्चे को घर से काफी दूरी तक घसीट कर ले गए। जमीन पर पटक-पटक कर उसे लहूलुहान कर दिया।

नेहा की चीख सुनकर परिवार के लोग और आसपास के ग्रामीण पहुंचे। लाठी-डंडों से पीटकर बंदरों को भगाया, लेकिन तब तक बच्चा बुरी तरह जख्मी हो चुका था। परिवार के लोग उसे सिकंदरा स्थित हॉस्पिटल लेकर पहुंचे। उपचार के दौरान अबोध बच्चे ने दम तोड़ दिया। देर रात रुनकता चौकी पुलिस मृत बच्चे के घर पहुंची और घटना की जानकारी ली।

योगेश के अबोध बेटे की जान लेने के बाद खूंखार हो चुके बंदर रात दस बजे करीब फिर योगेश के घर के पास पहुंच गए थे। गांव वालों ने बताया कि योगेश और उसके परिवार वाले हॉस्पिटल से बच्चे का शव लेकर घर आ रहे थे कि घर के पास दर्जनों बंदरों ने फिर उन पर हमला बोल दिया गांव वालों ने लाठी-डंडे लेकर बंदरों को बमुश्किल वहां से भगाया।

दो दिन पहले भी इन खूंखार बंदरों ने कस्बा रुनकता निवासी जोघा वाल्मीकि की दो माह की मासूम बच्ची पर हमला कर घायल कर दिया था। इसके अलावा बंदर दस दिन पूर्व कस्बा निवासी मनीषा पत्नी भोले, शीतल पुत्री साहब सिंह, रामनाथ पुत्र संजय, उदयवीर सिंह, पिंकी पत्नी डालचंद, नेत्रपाल का बेटे, चीकू की बेटी और ग्राम प्रधान पति मुन्ना सिंह सिकरवार सहित लोगो पर जानलेवा हमला कर चुके है।