Saturday, August 28, 2021

सीएम के साइकिल ट्रैक पर विदेशी ने लगाई पहली रेस

cycleलखनऊ।। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के लखनऊ में साइकिल ट्रैक को कई मायनों में फायदेमंद माना जा रहा है। नीदरलैंड की संस्था रॉयल हास्कॉनिंग के विम वॉन डेर विज्क ने मंगलवार को इसका अवलोकन किया और कार्यदायी संस्थाओं को आवश्यक सुझाव दिए। साइकिल संचालन के लिए जरूरी सुविधाओं के विशेषज्ञ विम ने इस मौके पर विक्रमादित्य मार्ग पर ट्रैक पर साइकिल भी चलायी। 

विम ने साइकिल यातायात को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार के प्रयासों की प्रशंसा की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व्यक्तिगत रूप से इस कार्य में रूचि ले रहे हैं। कम कीमत वाली साइकिलों को टैक्स से मुक्त किए जाने से लोग साइकिल खरीदने के लिए प्रेरित होंगे। पर्यावरण को बचाने एवं लोगों को स्वस्थ बनाए रखने में साइकिल की सवारी से बेहतर और कोई साधन नहीं हो सकता।

साइकिल का अधिक प्रयोग किए जाने वाले क्षेत्रों में साइकिल टैंड बनाए जाने की विम ने प्रशंसा की है। नीदरलैंड सहित अन्य यूरोपीय देशों में साइकिल के चलन का जिक्र करते हुए विम ने कहा कि वहां के अनुभव से बहुत सीखा जा सकता है, लेकिन भारत और विशेष रूप से उत्तर प्रदेश को स्थानीय परिस्थितियों के अनुरूप इस क्षेत्र में कार्य करना होगा।

ज्ञात हो है कि उत्तर प्रदेश में आबादी का एक बड़ा हिस्सा साइकिल का इस्तेमाल अपने जरूरी कामकाज के लिए करता है। किसान, मेहनतकश नौजवान, छात्र और गरीब के लिए यह आवागमन का यह सबसे सस्ता साधन है। इसे ग्रामीण और शहरी इलाकों में रहने वाली जनता सामान्य रूप से इस्तेमाल करती है।

मुख्यमंत्री ने गरीब और कमजोर वर्गों के हितों को ध्यान में रखते हुए ही साइकिल की कीमत घटाने का फैसला लिया है। राज्य सरकार ने साइकिल टैंड का रंग लाल रखने तथा मोटराइज्ड टैंड फिक को इससे अलग रखने का फैसला किया है। यह भी निर्णय लिया गया है कि वर्तमान एवं भविष्य में विकसित किए जाने वाले रेलवे स्टेशन मेट्रो तथा बस स्टेशनों इत्यादि के निकट सार्वजनिक स्थलों पर साइकिल पार्किंग की सुविधा अनिवार्य रूप से होगी।

फोटोः लखनऊ के विक्रमादित्य साइकिल ट्रैक पर साइकिल चलकार निरीक्षण करते हुए नीदरलैंड की संस्था रॉयल हास्कॉनिंग के विम वॉन डेर विज्क।