Wednesday, September 1, 2021

भाजपा के इस रामराज में 17 दिन गैंगरेप के बाद भी नहीं दर्ज होती एफआईआर

12832585_783886255089549_2418756737869091994_nएसपी मोनिका ने लिया बयान, केस दर्ज कर आईजी को सौंपेंगी पूरे मामले की रिपोर्ट, होगी मेडिकल जांच

लखनऊ/भोपाल (सुमन मिश्रा)।। भोपाल के इंदौर में एक विवाहिता के साथ 17 दिनों तक अपहरण कर गैंगरेप किए जाने का आरोप है। इसके बाद भी कार्रवाई होना तो दूर, केस तक दर्ज नहीं किया गया। इसके लिए विवाहिता को पति के साथ आईजी ऑफिस पर केरोसीन डालकर खुदकुशी करने पर मजबूर होना पड़ा। मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने दोनों को बचा लिया है। मामला 4 मार्च का है, लेकिन पुलिस ने इसे दबा दिया।

आईजी के निर्देश पर एसपी ने दोनों का बयान लेकर कार्रवाई का भरोसा दिया है। पूछताछ करने पर पति ने बताया कि तीन गुंडों मनोहर मराठा, उसके बेटे लक्की व चेतन ने उसकी पत्नी का अपहरण कर, उसे बंधक बनाकर, उसके साथ 17 दिन तक गैंगरेप किया। जब पत्नी एमआईजी थाने पर इसकी शिकायत करने पहुंची, तो थाने के पुलिस ने उसे भगा दिया। रिपोर्ट लिखाने के लिए वह आठ दिन से थाने के चक्कर लगा रहा था। तंग आकर आईजी आफिस में आत्मदाह करने का फैसला किया।

दिनदहाड़े किया था अपहरण

पीड़ित के मुताबिक़ उसकी पत्नी काम के लिए जा रही थी, तभी उसके मुंह पर कपड़ा डाल आरोपियों ने उसका अपहरण कर लिया था। उन्होंने उसे 17 दिन तक बंधक बनाकर रखा और उसके साथ गैंगरेप किया। आईजी के निर्देश पर एसपी मोनिका शुक्ला ने महिला के बयान दर्ज किए। उन्होंने कहा कि पुलिस मामले में जांच कर कार्रवाई करेगी।

फोटोः पीड़िता।