Thursday, September 2, 2021

मुसलमानों ने कहा, अयोध्या में बनेगा राम मंदिर, मस्जिद हम लखनऊ में बना लेंगे

lucknow. अयोध्या में राम मंदिर मुद्दे को लेकर बड़ी खबर आई है। Shia Waqf Board ने लखनऊ में मस्जिद बनाने का प्रस्ताव दिया है। -dainikdunia.com

राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद के समझौते के लिए शिया सेंट्रल वक्फ ने पूरा मसौदा पेश किया है। Shia Waqf Board के मसौदे के मुताबिक विवादित जगह पर राम मंदिर बनाई जाए और मस्जिद लखनऊ में बनाई जाए। इस मस्जिद को किसी राज या शासक के नाम पर रखने के बजाए अमन की मस्जिद का नाम रखा जाए।

 

राम मंदिर

विवादित जमीन पर बने राम मंदिर

Shia Waqf Board के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अयोध्या विवाद का समझौते का हल निकालने के लिए एक मसौदा तैयार किया है। इसमें कहा गया है कि विवादित जमीन पर भगवान श्रीराम का मंदिर बने ताकि हिन्दू और मुसलमानों के बीच का विवाद हमेशा के लिए खत्म हो और देश में अमन कायम हो सके।

 

ALSO READ. PM मोदी ने खुद फोन करके, इस महिला को रातों रात अमेरिका से बुलाया!

लखनऊ में मस्जिद बनाई जाए

Shia Waqf Board ने कहा कि इस मसौदे के तहत मस्जिद अयोध्या में न बनाई जाए, बल्कि उसकी जगह लखनऊ में बनाई जाए। इसके लिए पुराने लखनऊ के हुसैनाबाद में घंटा घर के सामने Shia Waqf Board की जमीन है, जिस पर मस्जिद बनाई जाए और इसका नाम इसका नाम किसी मुस्लिम राजा या शासक के नाम पर न होकर “अमन की मस्जिद” रखी जाए।

 

राम मंदिर

 

बोर्ड ने अयोध्या के विवादित मामले का फार्मूला 18 नवम्बर को सुप्रीम कोर्ट में जमा करा दिया। Shia Waqf Board के इस मसौदे पर दस्तखत करने वालों में दिगंबर अखाड़े के सुरेश दास, हनुमान गढ़ी के धर्मदास, निर्मोही अखाड़े के भास्कर दास इसके अलावा राम विलास वेदांती, गोपालदास और नरेंद्र गिरी ने भी समर्थन किया है।

 

ALSO READ. मायावती ने 8 लोगों को पार्टी से निकाला, देखिए अभी अभी आई लिस्ट

सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड सहमत नहीं

बता दें कि शिया वक्फ सेंट्रल बोर्ड ने मुस्लिम पक्षकारों की ओर से इस मसौदे पर कोई सहमति नहीं ली है। विवादित जगह से मस्जिद को हटाकर दूसरी स्थान पर बनाने के राय पर पिछले दिनों सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड सहमत नहीं है।

बता दें कि Shia Waqf Board अयोध्या मामले में पार्टी नहीं है। 8 अगस्त को Shia Waqf Board के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने पार्टी बनने के लिए अपील दायर की थी, जिसे सुप्रीमकोर्ट ने रद्द कर दी थी। इसके बाद लगातार वो अयोध्या विवादित मामले पर समझौते के लिए मस्जिद को मुस्लिम बाहुल्य इलाके में बनाने की बात करते रहे हैं और विवादित जगह पर राम मंदिर।

 

-FILE PHOTO