Sunday, September 5, 2021

नूतन ठाकुर की सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को चिट्ठी

Nutan-Thakur-dainikduniaलखनऊ।। अरविंद यादव ।। सामाजिक कार्यकर्ता और अधिवक्ता डॉ. नूतन ठाकुर ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को खत लिखा है। इसमें उन्होंने इलाहाबाद हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को हाई कोर्ट के दोनों बेंच और प्रदेश के अन्य कोर्टों में हड़ताल की स्थिति में सुधार के लिए निर्देशित करने का अनुरोध किया है। यह भी निवेदन किया है कि ऐसा नहीं होने पर उनके पास अपना अधिवक्ता पंजीयन निरस्त कराने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं रहेगा।

डॉ. ठाकुर ने यह भी लिखा है कि एडवोकेट्स एक्ट-1961 अधिवक्ताओं को अपने मुवक्किलों के प्रति बहुत महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां और अधिकार देता है पर लगातार हड़तालों से इसमें काफी दिक्कतें आ रही हैं। 21 और 22 जनवरी 2015 को यादव सिंह पीआईएल में मुख्य न्यायाधीश कोर्ट में बहस करने के लिए उपस्थित होने की प्रक्रिया में आई तमाम रुकावटों सहित कई व्यक्तिगत उदाहरणों का उल्लेख करते हुए, उन्होंने कहा कि ये लगातार हड़ताल बार कौंसिल ऑफ़ इंडिया के चैप्टर II, पार्ट VI में नियमों के रास्ते में आते हैं और मुवक्किल के प्रति निर्धारित कर्तव्यों में स्पष्ट रुकावट पैदा करते हैं।

डॉ. ठाकुर ने निवेदन किया कि यदि पर्याप्त उपाय नहीं किए गए, तो उनके पास अपना अधिवक्ता पंजीकरण निरस्त कराने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं रहेगा।

फाइल फोटोः बाएं डॉ. नूतन ठाकुर और दाएं सुप्रीम कोर्ट।