Thursday, September 2, 2021

यूपी: नशे का इंजेक्शन लगाकर अस्पताल में वृद्धा मरीज से रेप !

Meerut. मेरठ के गढ़ रोड स्थित लोकप्रिय उत्तर प्रदेश के मेरठ के हॉस्पिटल में भर्ती रिटायर फौजी की वृद्ध पत्नी के साथ अस्पताल के कम्पाउंडर ने नशे का इंजेक्शन रेप की वारदात को अंजाम दिया। इस शर्मनाक वारदात को आरोपी ने रविवार देररात करीब दो बजे अंजाम दिया और इसके बाद फरार हो गया।

रेप

पुलिस ने रात में हॉस्पिटल पहुंचकर जांच की। सुबह सपा नेता अतुल प्रधान के समर्थकों ने घटना के विरोध में हॉस्पिटल में हंगामा कर दिया और पुलिस की मौजूदगी में मैनेजर की पिटाई कर दी। सोमवार रात पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की प्रारंभिक जांच में रेप की पुष्टि हुई है और आपत्तिजनक सामान भी बरामद किया गया है।

हापुड़ जिले में सिंभावली क्षेत्र निवासी 58 वर्षीय वृद्धा को हड्डियों में दिक्कत के चलते 13 नवंबर को लोकप्रिय अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल में विशेष आरक्षित कमरे में महिला का इलाज चल रहा था।

आरोप है कि रविवार रात करीब साढ़े 11 बजे कम्पाउंडर ने महिला मरीज को तीन इंजेक्शन लगाए। इसके बाद महिला अर्द्धबेहोश हो गई। आरोप है कि रात करीब सवा दो बजे कम्पाउंडर ने महिला मरीज से दुष्कर्म किया और इसके बाद फरार हो गया।

पीड़िता ने फोन कर अपने पति को बुलाया। इसके बाद उनके दोनों बेटे भी आ गए। वह मौके पर पहुंचे तो वृद्धा मरीज बैड पर नग्न हालत में पड़ी थी। पीड़िता ने उन्हें पूरा घटनाक्रम बताया।

अस्पताल की ओर से यूपी-100 लखनऊ कंट्रोल रूम को मामले की सूचना दी गई। रात में ही नौचंदी थाना पुलिस और यूपी-100 पीआरवी अस्पताल पहुंची। परिजनों ने पुलिस को पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी।

नौचंदी थाने के एसएसआई शशि कुमार ने बताया कि मामले में हॉस्पिटल कम्पाउंडर रिजवान निवासी अमरोहा के खिलाफ रेप का केस दर्ज कर लिया है। पीड़िता की डॉक्टरी कराई जा रही है।

पुलिस के सामने हॉस्पिटल मैनेजर को थप्पड़ मारे

रात दो बजे से सुबह 10 बजे तक पीड़िता के परिवारवाले नौचंदी थाने के चक्कर काटते रहे, लेकिन किसी ने उनकी नहीं सुनी। जानकारी मिलने पर सपा नेता अतुल प्रधान के कुछ समर्थक अस्पताल में पहुंच गए। उन्होंने हंगामा कर दिया। अस्पताल के मैनेजर को घेर लिया। मैनेजर को जमकर खरी-खोटी सुनाई।

इस दौरान एक व्यक्ति ने पुलिस के सामने मैनेजर को चांटा मार दिया। वहां मौजूद नौचंदी थाने के एसएसआई शशि सिंह ने बामुश्किल भीड़ को शांत किया और कार्रवाई का आश्वासन दिया। दूसरी ओर, सपाइयों के हंगामे से दहशत में आए अस्पताल प्रबंधन ने कहा कि उन्हें फंसाने का प्रयास किया जा रहा है। हंगामा करने वालों से उन्हें खतरा है। अस्पताल प्रबंधन ने सुरक्षा की मांग की है।

मेरठ एसपी सिटी रणविजय सिंह ने बताया कि प्रारंभिक जांच में रेप की पुष्टि हो रही है। अस्पताल के जिस कमरे में रेप की घटना अंजाम दी गई, उसी कमरे में एक कपड़ा बरामद हुआ है, जिस पर सीमैन लगा हुआ है। इसे फोरेंसिक टीम ने सुरक्षित कर लिया है। आरोपी ने भी पूछताछ में रेप की पुष्टि की है। पुलिस की जांच में नौकरी से निकाले जाने के विवाद को लेकर घटना प्लांट करने जैसी बात भी नहीं आई है। ऐसे में आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और जेल भेजा जाएगा।

लोकप्रिय हॉस्पिटल के प्रशासन निदेशक डॉ. रोहित रविंद्र ने बताया कि प्रथम दृश्य में ऐसा प्रतीत होता है कि आरोप लगाने वाली वृद्धा के बेटे द्वारा रची गई एक साजिश है। इस व्यक्ति को आज से लगभग तीन-चार साल पहले लोकप्रिय अस्पताल से निलंबित कर दिया गया था। जिसके बदले स्वरूप उसने यह साजिश रची। यदि भर्ती महिला के साथ दुष्कर्म हुआ तो हम जांच व कानूनी कार्रवाई में कोई बाधा उत्पन्न नहीं करेंगे। हम महिला व उसके परिवार के साथ हैं। महिला की जांच पीएल शर्मा अस्पताल में कराई जा रही है, जिसकी रिपोर्ट अभी आनी बाकी है। जिस नर्सिंग स्टाफ पर दुष्कर्म का आरोप लगाया गया है, उसको निलंबित कर दिया गया है। यदि आरोप सिद्ध होता है तो उसके विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाए।