Saturday, September 4, 2021

UPPCS 2018: पहली बार एक साथ होंगी 2 प्री परीक्षा, ये होगी सबसे बड़ी चुनौती !

लखनऊ. लोक सेवा आयोग की पीसीएस, एसीएफ एवं आरएफओ प्री परीक्षा 2018 रविवार को प्रदेश के 29 जिलों में बनाए गए 1382 केंद्रों पर होगी। 924 पदों के लिए हो रही इस परीक्षा में साढ़े छह लाख परीक्षार्थी शामिल होंगे। इस परीक्षा में गलत प्रश्नों को रोकना आयोग के सामने सबसे बड़ी चुनौती होगी। पीसीएस प्री की पिछली दो परीक्षाओं में गलत प्रश्न और उत्तर का मामला सामने आ चुका है।

इन दोनों ही परीक्षाओं में परीक्षार्थियों की ओर से दाखिल याचिका पर हाईकोर्ट ने प्री का परिणाम संशोधित करने के आदेश दिए थे। यह अलग बात है कि दोनों ही मामलों में सुप्रीम कोर्ट में दाखिल विशेष अनुमति याचिका (एसएलपी) पर आयोग को राहत मिल गई थी। कानूनी विवाद की वजह से डिप्टी कलेक्टर और डिप्टी एसपी समेत विभिन्न प्रकार के 633 पदों के लिए हुई पीसीएस 2016 मुख्य परीक्षा का परिणाम अभी घोषित नहीं हो सका है जबकि परीक्षा हुए दो साल से अधिक हो चुके हैं।

पहली बार एक साथ होगी दो प्री परीक्षा

इस बार की परीक्षा आयोग के लिए इसलिए भी चुनौतीपूर्ण मानी जा रही है क्योंकि यह पहला मौका होगा जब पीसीएस के साथ एसीएफ एवं आरएफओ की प्री परीक्षा कराई जाएगी। पूर्व में यह दोनों परीक्षाएं अलग-अलग होती थीं। परीक्षा एक साथ होने की वजह से ही परीक्षार्थियों की संख्या छह लाख पार कर गई है। आयोग को परीक्षा के लिए आठ जिले और 400 केंद्र बढ़ाने पड़े हैं।

माइनस मार्किंग का रखना होगा ध्यान

परीक्षार्थियों को इस परीक्षा में माइनस मार्किंग का भी ध्यान रखना होगा। आयोग ने अपनी बहुविकल्पीय परीक्षाओं में माइनस मार्किंग लागू करने का निर्णय सितंबर 2017 में लिया था पर निर्णय से पूर्व पीसीएस 2017 प्री परीक्षा की प्रक्रिया शुरू हो गई थी, इसलिए उसमें माइनस मार्किंग लागू नहीं की गई थी। 2018 की पीसीएस प्री परीक्षा में पहली बार माइनस मार्किंग होगी। प्रत्येक गलत उत्तर पर दंड स्वरूप एक तिहाई यानी 0.33 अंक की कटौती की जाएगी। एक से अधिक विकल्प पर निशान लगाने वाले परीक्षार्थियों का उत्तर गलत माना जाएगा, भले ही उन्होंने इनमें से एक निशान सही उत्तर पर क्यों न लगाया हो।

924 पदों के लिए होगी परीक्षा

पीसीएस तथा एसीएफ एवं आरएफओ प्री परीक्षा 2018 में 924 पद घोषित किए गए हैं। इनमें से 832 डिप्टी कलेक्टर एवं डिप्टी एसपी समेत पीसीएस संवर्ग के अन्य पद हैं। एसीएफ के 16 और आरएफओ के 76 पद घोषित किए गए हैं।

इन बातों का रखें ध्यान-

-जाम या अन्य समस्या को देखते हुए परीक्षा केंद्र पर नियत समय से पहले पहुंच जाएं।
-परीक्षा को लेकर ज्यादा तनाव न लें। पूरे आत्मविश्वास के साथ परीक्षा दें।
-ओएमआर उत्तर पत्रक पर रोल नंबर एवं अन्य सूचनाएं ध्यान पूर्वक भरें, जल्दीबाजी में कोई सूचना गलत या छूट न जाए।
-ओएमआर की कार्बन कॉपी अपने साथ लाएं, इससे सही-गलत का मिलान करने में सुविधा होगी।
-परीक्षा केंद्र के अंदर मोबाइल एवं अन्य इलेक्ट्रानिक्स गजट प्रतिबंधित है, इसे साथ न रखें।