Thursday, September 2, 2021

संत रविदास जयंती के अवसर पर योगी सरकार ने दिए कार्यक्रम आयोजित करने के आदेश

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 30/31 जनवरी, 2018 को प्रदेश की सभी शिक्षण संस्थाओं में संत रविदास जयंती के अवसर पर कार्यक्रम आयोजित किये जाने के निर्देश दिये हैं।

संत रविदास जयंती

विस्तार से जानकारी दी जाएगी

सभी शिक्षण संस्थाओं को निर्देश दिये गये हैं कि इस अवसर पर संत रविदास के जीवन-चरित्र, उनके विचार/ज्ञान पर चर्चा/परिचर्चा कार्यशाला का आयोजन करें। इनमें छात्र-छात्राओं एवं युवा पीढ़ी को उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व के बारे में विस्तृत जानकारी दी जाए।

मुख्यमंत्री के निर्देशों के क्रम में अपर मुख्य सचिव माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा ने इस आशय का शासनादेश आज यहां जारी कर दिया है। इसके माध्यम से सभी शिक्षण संस्थाओं में संत रविदास जयंती के अवसर पर कार्यक्रम आयोजित कर उनके विषय में विद्यार्थियों को अवगत कराने के लिए कहा गया है।

संत रविदास जयंती के सफल आयोजन और इसके लिए

अपर मुख्य सचिव के निर्देशों के क्रम में माध्यमिक शिक्षा निदेशक द्वारा सभी जनपदों के जिला विद्यालय निरीक्षकों को इस आशय का आदेश निर्गत कर संत रविदास जयंती के सफल आयोजन और इसके लिए आयोजित कार्यक्रम में उनके जीवन चरित्र के बारे में विस्तार से बताने के निर्देश दिये गये हैं।

सचिव उप्र बेसिक शिक्षा परिषद इलाहाबाद द्वारा भी इस आशय के निर्देश जारी करते हुए कहा गया है कि 31 जनवरी, 2018 को परिषद के नियंत्रणाधीन सभी विद्यालय नियत समय पर खोलते हुए अध्यापकों द्वारा सभी बच्चों को संत रविदास के जीवन-दर्शन के सम्बन्ध में जानकारी दी जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि संत रविदास उन महान सन्तों में से हैं…

मुख्यमंत्री ने कहा कि संत रविदास उन महान सन्तों में से हैं, जिन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। इनकी रचनाओं की विशेषता लोक-वाणी का अद्भुत प्रयोग रही है, जिससे जनमानस पर इनका अमिट प्रभाव पड़ता है। उनका सारा जीवन जाति-पाति और ऊंच-नीच के भेदभाव, अंधविश्वासों और कुप्रथाओं के विरोध में बीता।